सब्सिडी स्कीम वाला सोलर पैनल लगाना चाहते हैं तो जान लीजिए ये जरुरी बातें?

आज के समय में पूरी दुनिया में सोलर एनर्जी की माँग काफी बढ़ गई है और भारत में भी बीते कुछ समय से सोलर एनर्जी को लेकर लोगों का काफी एक्साइटमेंट देखा जा रहा है। खास कर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने पीएम सूर्यघर योजना (PM Suryaghar Scheme) को लॉन्च किया है, लोगों की सोलर सिस्टम को लेकर तलाश काफी बढ़ गई है। बता दें कि यह एक ऐसी स्कीम है, जिसके अंतर्गत देश के 1 करोड़ घरों में रूफटॉप सोलर सिस्टम (Rooftop Solar System) को लगाने की योजना है। आज यदि आप अपने घर में सोलर सिस्टम लगाने की योजना बना रहे हैं, तो इसे लेकर आपके मन में कई तरह के सवाल उठते हैं। जैसे कि एक सोलर सिस्टम क्या होता है? इसके कितने प्रकार होते हैं? आपको सोलर सब्सिडी या सोलर लोन की सुविधा कैसे मिलेगी? सोलर पैनल लगाने के लिए आपको कितने स्पेस की जरूरत होगी, आदि। 

तो, आज के इस लेख में हम आपको ऐसे सभी जरूरी सवालों के जवाब देने जा रहे हैं। यहाँ आप सोलर सिस्टम इंस्टालेशन के बारे में कई महत्वपूर्ण जानकारियों को हासिल कर सकते हैं और अपने घर में बिना किसी परेशानी के सोलर लगा सकते हैं और खुद को बिजली के मामले में आत्मनिर्भर बना सकते हैं।

1. ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम क्या होता है? (What is On Grid Solar System)

ऑन-ग्रिड सोलर सिस्टम (On Grid Solar System) एक ऐसा सिस्टम है, जिसे आप सीधे ग्रिड के साथ कनेक्ट कर सकते हैं और अपने महीने के बिजली बिल को कम कर सकते हैं। इसमें आप बिजली की कमी या अधिक इलेक्ट्रिसिटी जनरेशन को नेट मीटरिंग के जरिए कंट्रोल कर सकते हैं और इसमें बैटरी की जरूरत नहीं होती है। इस सोलर सिस्टम में आपको सोलर पैनल, सोलर इन्वर्टर, पैनल स्टैंड जैसे सोलर प्रोडक्ट की जरूरत होती है। यदि आप अपने यहाँ ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम (On Grid Solar System) लगाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको अपने DISCOM यानी कि बिजली विभाग से स्वीकृति लेनी होगी। आज के समय में देश में 95 से भी अधिक DISCOM हैं। इसके अलावा, भारत सरकार द्वारा लोगों की मदद के लिए एक Single Window Rooftop Solar Portal की भी शुरुआत की गई है, जहाँ आप 7 से 10 दिनों के अंदर अपनी Feasibility Report बेहद ही आसानी से हासिल कर सकते हैं। इस दौरान आपको बिजली का बिल, ईमेल आईडी, और मोबाइल नंबर की जरूरत होगी।

2. ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम के फायदे क्या हैं? (What are the benefits of On Grid Solar System)

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम (On Grid Solar System) को लगाने के कई फायदे हैं। जैसे कि इसे लगाकर आप अपने महीने के बिजली बिल को कम से कम 80 प्रतिशत तक काफी आराम से कम कर सकते हैं। यानी यदि आपका अभी महीने में 1000 रुपये का बिजली बिल आता है, तो आप 1 किलोवाट का ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम लगा कर हर महीने कम से कम 800 रुपये की बचत काफी आराम से कर सकते हैं। साथ ही, इस सोलर सिस्टम को लगाने में ऑफ ग्रिड सोलर सिस्टम (Off Grid Solar System) के मुकाबले खर्च भी कम होता है। क्योंकि, इस सिस्टम में आपको पावर बैकअप के लिए बैटरी की जरूरत नहीं होती है। इस सिस्टम में आपका सीधे बिजली बिल कम हो जाता है।

3. ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम काम कैसे करता है? (How Does an On Grid Solar System Work)

कोई भी सोलर मॉड्यूल सूरज के धूप को अवशोषित कर, उसे पहले डायरेक्ट करंट (DC) में बदलता है। फिर सोलर इन्वर्टर उस DC को अल्टेरनेटिंग करंट (AC) में बदलता है, ताकि यह बिजली के घर के उपकरणों को चला सके। किसी भी ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम में यह बिजली ग्रिड को ट्रांसफर होती है। फिर, इसमें लगा नेट मीटर (Net Meter) यह कैलकुलेट करता है कि सोलर पैनल से आपके यहां कितनी बिजली आई है और आपने कितनी बिजली का इस्तेमाल किया है। इसी के आधार पर आपके महीने के अंतर का बिजली बिल बनता है। 

4. ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम को लगाने में कितना खर्च आता है? (How much does the On grid solar system cost)

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम (On Grid Solar System) को लगाने में आपको प्रति किलो वाट लगभग 60 हजार रुपये से लेकर 80 हजार रुपये तक का खर्च आता है। यह खर्च पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस ब्रांड, कैपेसिटी, रेटिंग के सोलर प्रोडक्ट्स को खरीद रहे हैं।

5. सोलर एनर्जी और बैंक में से अच्छा इंवेस्टमेंट कौन सा है? (Which is a good investment: Solar Energy or Bank)

सोलर एनर्जी (Solar Energy), बैंक के मुकाबले एक अच्छा इंवेस्टमेंट प्लान माना जाता है।आज के समय में कोई भी बैंक आपको साल में 6 से 7 प्रतिशत का रिटर्न देता है। वहीं, सोलर एनर्जी आपको साल में 20 प्रतिशत तक रिटर्न देता है और यह लॉन्ग टाइम इंवेस्टमेंट है। यानी आपने एक बार इसमें पैसा लगा दिया और जिस दिन से आपके यहाँ सोलर काम करना शुरू करेगा, उस दिन से आपको सालों साल के लिए इसका रिटर्न मिलना शुरू हो जाएगा। हालांकि, बैंक में पैसा जमा करने और सोलर खरीदने में यह अंतर है कि सोलर एक ऐसा प्रोडक्ट है, जिसकी वैल्यू साल दर साल कम होती जाती है। लेकिन, पैसे की वैल्यू हर साल बढ़ती है। इसके बावजूद, सोलर इंवेस्टमेंट का एक अच्छा विकल्प है।

6. सोलर पैनल पर रिटर्न कितने साल में मिल जाता है? (How many years will it take to return the solar panels)

सोलर पैनल पर रिटर्न अलग - अलग सेक्टर पर निर्भर करता है। जैसे कि यदि कोई रेसीडेंटियल सेक्टर में सोलर लगाता है, तो Off Grid to On Grid रिटर्न में करीब 4 से 7 साल लगते हैं। वहीं पर यदि कोई Commercial और Industrial में सोलर लगाता है, तो उसका 2.5 से 4 साल में रिटर्न मिल जाता है। सोलर सिस्टम इंस्टालेशन में यह Assurity जरूर होती है कि आपको रिटर्न 4 से 7 साल में आराम से मिल जाती है। इसके बाद, आपको कम से कम 25 वर्षों तक सोलर पैनल से मुफ्त बिजली मिलते रहती है।

7. प्रति वाट सोलर पैनल की कीमत कितनी होती है? (How much is the solar panel price per watt)

जितना छोटा सोलर पैनल होगा, उसकी कीमत उतनी ज्यादा होती है। वहीं, जितना बड़ा सोलर पैनल होगा, उसकी कीमत कम होगी। आम तौर पर भारत में प्रति वाट सोलर पैनल की कीमत करीब 20 से 30 रुपये के आस-पास होती है। हालांकि, यह कीमत पूरी तरह से Solar Technology, Brand, Quality, Ratings, आदि पर निर्भर करती है।

8. 5 किलोवाट सोलर पैनल की कीमत कितनी होती है? (How much does 5kW solar panels cost)

आज के समय में 5 किलोवाट सोलर सिस्टम की बात करें, तो Ongrid में लगभग 3 लाख रुपये, Off Grid में 5 लाख रुपये और Hybrid में 5.5 लाख रुपये की लागत आती है। इस पर आपको EMI और Loan की सुविधा आसानी से मिल जाती है।

9. 3 किलोवाट सोलर पैनल की कितनी कीमत होती है? (How much does 3kW solar panels cost)

आज के समय में 3 किलोवाट सोलर सिस्टम की बात करें, तो Ongrid में लगभग 1.8 लाख रुपये, Off Grid में 3 लाख रुपये और Hybrid में 3.5 लाख रुपये की लागत आती है। इस पर आपको EMI और Loan की सुविधा आसानी से मिल जाती है। यह भारतीय बाजार में सबसे पोपुलर और सुटेबल सोलर पैनल है, जिस पर सरकार आपको सब्सिडी भी देती है।आज के समय में भारत के अधिकांश घरों का Sanctioned Load 1 से 3 किलोवाट है। इस तरह आप अपने घर में 3 किलोवाट का सोलर सिस्टम लगा कर खुद को बिजली के मामले में लगभग आत्मनिर्भर बना सकते हैं।

10. 1 किलोवाट सोलर पैनल की कीमत कितनी होती है? (How much does 1kW solar panels cost)

आज के समय में 1 किलोवाट सोलर सिस्टम पर आपको लगभग 1 लाख रुपये का खर्च आता है। जिनके घरों में पहले से ही इंवर्टर बैटरी है। जैसे कि यदि एक Single Inverter Battery होगा तो 35 से 50 हजार, जिनके पास 2 इंवर्टर बैटरी होगा उनको 50 से 70 हजार का खर्च आएगा। यदि कोई बिल्कुल नया सिस्टम ही लेते हैं, तो आपको 1 लाख रुपये का खर्च आएगा।

11. क्या आप सोलर पैनल फ्लैट में लगा सकते हैं? (Can I install solar panels in flats)

अभी भारत में जो रहने का ट्रेंड चला है, टियर 1 और टियर 2 सिटिज में, वह यह है कि आज लोग Gated Society में रहना पसंद करते हैं। लेकिन, वहां पर क्या है कि वहां पर बिजली की कीमत और जेनरेटर से मिलने वाली बिजली की कीमत ज्यादा होने के कारण, उनका महीने का बिजली बिल काफी ज्यादा हो जाता है। तो उस चीज के लिए यदि कोई सोलर पैनल लगाने की प्लानिंग करता है, तो वे इसे अपनी बाल्कनी वाले एरिया में काफी आसानी से लगा सकते हैं। वे अपने फ्लैट में South Facing में सोलर लगा सकते हैं। वे यहां Grid Connected Solar System नहीं लगा सकते हैं। इसमें आपको बैटरी के साथ सोलर सिस्टम लगानी होगी यानी Off Grid Solar System।

12. क्या आप रेंट पर रहने के बाद अपने घर में सोलर सिस्टम लगा सकते हैं? (Can I install solar panels in rented homes)

आप रेंट वाले घरों में Grid Connected Solar System नहीं लगा सकते हैं। यदि आप ऐसे घरों में सोलर लगाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको सबसे पहले अपने मकान मालिक से परमिशन लेने की जरूरत होगी। हालांकि, लगाने के दौरान यह ध्यान रखें कि Existing Wiring और छत को सोलर इंस्टालेशन के दौरान कोई नुकसान न हो।

13. क्या आप बाल्कनी में भी सोलर पैनल लगा सकते हैं? (Can I install solar panels in balcony areas)

किसी भी 3 बीएचके, या 2 बीएचके घरों में बाल्कनी 27 से 28 फीट लंबी होती है और एक फ्लोर से दूसरे फ्लोर के बीच की दूरी 10 फीट होती है। किसी भी सोलर पैनल की ऊँचाई लगभग 7 फीट होती है। इस लिए आप इसे अपनी बाल्कनी में ग्लास की तरह खड़ा करके आसानी से लगा सकते हैं। इस दौरान ध्यान रखें कि आपका इंस्टालेशन Proper हो। एक और बात है कि आप यहाँ Off Grid Solar System लगा सकते हैं।

14. क्या आप सोलर पैनल फ्री में लगा सकते हैं? (Can I install a free solar panel?)

नहीं। आप अपने घर में सोलर पैनल को फ्री में नहीं लगा सकते हैं। आज सरकार द्वारा सोलर एनर्जी को बढ़ावा देने के लिए पीएम सूर्यघर योजना (PM Surya Ghar Scheme) लॉन्च किया गया है, जिसके अंतर्गत आपको सब्सिडी मिलती है। यहाँ आप सोलर पैनल से अतिरिक्त बनने वाली बिजली को सरकार को बेच कर पैसे कमा सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत आपको 1 से 10 किलोवाट के ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम के लिए 78 हजार रुपये तक की सब्सिडी मिलती है। यदि आप सोलर को EMI पर लगाते हैं, तो आपको केवल अपने महीने के बिजली बिल जितना ही ईएमआई आएगा।

15. क्या ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम को लगाने का कोई फायदा है? (Does an On-Grid Solar System Worth It)

हाँ, बिल्कुल। किसी भी सोलर सिस्टम को अपने घर में लगाने के बाद आपको इसका रिटर्न ऑन इंवेस्टमेंट ज्यादा से ज्यादा 4 से 7 साल में मिल जाता है और इसके बाद आपको 25 वर्षों से भी अधिक समय तक के लिए मुफ्त बिजली मिलती रहती है और आपको पावर कट की भी कोई टेंशन नहीं होती है। किसी भी सोलर प्रोडक्ट को खरीदने से पहले उसका रिव्यू जरूर चेक कर लें।

16. अगर छत पर धूप ठीक से न आ रही हो, तो क्या सोलर पैनल इंस्टाल करना चाहिए? (There are many high buildings near my home, that’s why the shadow comes on my roof. Should I install solar panels?)

आज के समय में सोलर प्रोडक्ट (Solar Product) की टेक्नोलॉजी काफी एडवांस हो गई है। पहले के सोलर पैनल Poly Crystalline Panels होते थे, जो ज्यादा एडवांस नहीं होते थे और उनकी एफिसियंशी रेट कम होती थी। लेकिन आज टेक्नोलॉजी काफी एडवांस हो चुकी है और यदि आपके यहां ठीक से धूप नहीं आ रही है या आसमान में बादल भी छाया हुआ है, तो आपको ये पूरी बिजली बनाकर दे देते हैं। आज के समय में सोलर पैनल के मामले में Top Con, Bifacial, बैटरी के मामले में सोलर बैटरी, लिथियम ऑयन बैटरी, इंवर्टर के मामले में Hybrid Inverter बेस्ट है। पहले सोलर पैनल से जितनी बिजली आपको 10 घंटे में मिलती थी, अब उतनी बिजली आपको 3 से 4 घंटे में ही मिल जाती है।

17. क्या सोलर इंस्टालेशन के दौरान पुरानी वायरिंग को बदलनी होगी? (Does the existing electrical wiring required to change for solar installation?)

आज के समय में जब आप सोलर लगाने जाते हैं, तो अधिकांश पैनल पुराने घरों में लगे होते हैं। हालांकि, आज सोलर लगाने का चलन नये घरों में भी तेजी से बढ़ रहा है। यदि आप किसी पुराने घर में ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम (On Grid Solar System) लगाते हैं, तो आपको यहाँ वायरिंग की ज्यादा दिक्कत नहीं होती है। क्योंकि, ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम में सोलर पैनल की जो भी वायरिंग होती है, वह सोलर पैनल से होते हुए Inverter, Inverter - ACDB से होती हुई, डायरेक्ट बिजली के डिस्ट्रीब्यूशन बॉक्स में कनेक्ट हो जाती है। लेकिन, यदि आप ऑफ ग्रिड सोलर सिस्टम (Off Grid Solar System) या हाइब्रिड सोलर सिस्टम (Hybrid Solar System) लगाते हैं, तो आपको यहां वायरिंग बदलनी पड़ेगी। क्योंकि वहां पर आपको Load Distribution करना पड़ता है। इस वजह से वायरिंग की थोड़ी दिक्कत आती है।

18. क्या बंदर सोलर पैनल को नुकसान पहुंचा सकते हैं? (Does Monkey damage solar panels?)

आज के समय में पूरे देश में कई ऐसे जगह हैं, जहाँ बंदरों की समस्या काफी ज्यादा है। ऐसे जगहों पर यदि आप सोलर पैनल लगाना चाहते हैं, तो यह एक आउटडोर प्रोडक्ट है और यह एक ग्लास मेड प्रोडक्ट है। इसलिए इसे तेज आंधी, पत्थर आदि से टूटने का डर मन में रहता है।किसी भी सोलर पैनल में दो तरह के लोड होते हैं - Front Load और Back Load. किसी भी अच्छे ब्रांड के सोलर पैनल की Front Load Capacity 150 किलो होती है। इतने तक में सोलर पैनल को कोई दिक्कत नहीं होती है। लेकिन, इसका इंस्टालेशन मजबूती से होना चाहिए और इंस्टालेशन के दौरान ध्यान रखें कि इसकी वायरिंग लूज न रहे, नहीं तो बंदर उसमें लटक - लटक कर उसे तोड़ देंगे।

19. मेरा sanctioned load 2 किलोवाट है, क्या मैं 3 किलोवाट या 5 किलोवाट का ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम इंस्टाल कर सकता हूं? (I have a 2kW sanctioned load. Can I install 3kW/5kW on a grid solar system?)

जब से पीएम सूर्यघर योजना (PM Suryaghar Scheme) लॉन्च हुआ है, तब से यह सवाल लोगों के मन में सबसे ज्यादा है। यह एक ऐसी स्कीम है, जिसके अंतर्गत 1 करोड़ घरों में रूफटॉप सोलर (Rooftop Solar) लगाने की योजना है। आज के समय में भारत में लगभग 25 करोड़ घर हैं और उसमें लगभग 75 प्रतिशत घरों में Electricity Connection का sanctioned load 1 से 2 किलोवाट है। यदि आप इससे ज्यादा का सोलर सिस्टम अपने घर में लगाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको अपना sanctioned load भी बढ़ाना होगा। इसे बढ़ाने के लिए आप अपने संबंधित DISCOM में आवेदन कर सकते हैं। ऐसे करने से आपका महीने में बिजली का खर्च भी बढ़ जाता है।

20. क्या हम सोलर पैनल ईएमआई पर लगा सकते हैं? (Can I install solar panels on Easy EMIs?)

बाजार में आज के समय में कार लोन (Car Loan) और होम लोन (Home Loan), सोलर लोन (Solar Loan) की सुविधा भी काफी आसानी से मिल जाती है। आपको इसके लिए कुल खर्च पर केवल 20 प्रतिशत डाउन पेमेंट के रूप में खर्च करना पड़ता है। आप ईएमआई की सुविधा 7 से 14 प्रतिशत इंटरेस्ट रेट पर 6 से 10 साल के लिए आराम से ले सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें - https://loan.loomsolar.com/

21. सब्सिडी का पैसा बैंक में क्रेडिट होने में कितना समय लगेगा? (How many days will the solar subsidy amount be credited in the bank account?)

इसमें आपको आवेदन के बाद 2 से 6 महीने तक का समय लगता है।

22. क्या सोलर लगाने के लिए बिजली बोर्ड से परमिशन लेनी होगी? (Is any permission required from the local electricity board?)

यदि आप अपने घर में ग्रिड कनेक्टेड सोलर सिस्टम (Grid Connected Solar System) लगा रहे हैं, तो इसमें नेट मीटर लगता है। इसी वजह से आपको बिजली बोर्ड से परमिशन लेना ही होगा। वहीं, आपको हाइब्रिड सोलर सिस्टम (Hybrid Solar System) और ऑफ ग्रिड सोलर सिस्टम (Off Grid Solar System) में कोई परमिशन लेने की जरूरत नहीं होती है।

23. सोलर पैनल पर आप क्या क्या चला सकते हैं? (What appliances can run on solar panels?)

आप सोलर पैनल पर एसी, फ्रीज, इंडक्शन, पानी का मोटर से लेकर आटा मिल जैसी कई भारी मशीनों को भी आसानी से चला सकते हैं।

24. सोलर पैनल इंस्टालेशन पर कितनी सब्सिडी मिलती है? (How much subsidy will get on solar panels installation?)

आज 1 किलो वाट के ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम (On Grid Solar System) के लिए 30,000 रुपये की सब्सिडी मिलती है, वहीं 2 किलो वाट के सोलर सिस्टम के लिए 60,000 रुपये की सब्सिडी मिलती है और उससे अधिक क्षमता के सोलर सिस्टम पर आपको 78,000 रुपये की दर से सब्सिडी मिलती है।10 किलो वाट तक के सोलर सिस्टम पर आपको 78,000 रुपये की सब्सिडी मिलती है। यदि आप इससे अधिक क्षमता का सोलर सिस्टम लेते हैं, तो इसके लिए कोई सब्सिडी नहीं है।

25. ग्रिड कनेक्टेड सोलर सिस्टम को इंस्टाल करने में कितना समय लगता है? (How many days are required to install a grid-connected solar system?)

ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम को इंस्टाल करने के लिए आपको सबसे पहले अपने संबंधित DISCOM में आवेदन करना पड़ता है। इसके लिए भारत सरकार द्वारा लोगों की मदद के लिए एक Single Window Rooftop Solar Portal की भी शुरुआत की गई है, जहाँ आप 7 से 10 दिनों के अंदर अपनी Feasibility Report बेहद ही आसानी से हासिल कर सकते हैं। वहीं, सोलर पैनल को इंस्टाल करने में आपको 1 से 2 हफ्ते का समय लग सकता है। जब आपके यहाँ नया नेट मीटर लग जाता है, तो इसके 2 से 3 महीनों के बाद आपके यहां नया बिजली बिल आना शुरू हो जाता है। इस नये बिजली बिल में आपको बिजली विभाग द्वारा Import, Export (Extra electricity feed to electricity department) और Net Billing = export – import (actual bill) जैसी सभी जानकारियां मिल जाती है।

26. 3 किलोवाट सोलर पैनल से कितना एसी चला सकते हैं?

3 किलोवाट का मतलब है 3000 वाट और एक एसी की बिजली खपत लगभग 1400 - 1800 वाट की होती है। इसके अनुसार इस सोलर सिस्टम पर आप एक एसी के साथ घर के जरूरी उपकरण जैसे कि फ्रिज, इंटरनेट, RO, पंखा, लाइट, इत्यादि  चला सकते हैं। यह सोलर सिस्टम ऑफ़ ग्रिड और ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम दोनो में उपलब्ध है। यहाँ जानकारी ऑफ ग्रिड सोलर सिस्टम के अनुसार दी हुई है।

3 comments

Arun Shivkar

Arun Shivkar

Very Good & Useful information.

Rewati Raman Jha

Rewati Raman Jha

Good information.

Suresh Kumar Meena

Suresh Kumar Meena

Sir my soler lagwana hai 2KW

Leave a comment

ഏറ്റവും കൂടുതൽ വിറ്റഴിക്കപ്പെടുന്ന ഉൽപ്പന്നങ്ങൾ

Engineer VisitEngineer Visit
Loom Solar Engineer Visit
Sale priceRs. 1,000 Regular priceRs. 2,000
Reviews
Dealer RegistrationLoom Solar Dealer Registration
Loom Solar Dealer Registration
Sale priceRs. 1,000 Regular priceRs. 5,000
Reviews