कैसे बिजली विभाग के अनुमति बिना लगा सकते है ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम?

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) द्वारा कुछ समय पहले पूरे देश में सोलर एनर्जी (Solar Energy) को बढ़ावा देने के लिए पीएम सूर्यघर योजना (PM Suryaghar Scheme) को लॉन्च किया गया है। यह एक ऐसी स्कीम है जिसके अंतर्गत पूरे देश के 1 करोड़ घरों में रूफटॉप सोलर पैनल (Rooftop Solar Panel) को इंस्टाल करना है।

क्या आ रही है समस्या?

आधिकारिक आँकड़ों के अनुसार, पीएम सूर्यघर योजना (PM Suryaghar Scheme) के लिए 1 करोड़ आवेदन पूरे हो चुके हैं। इस योजना के अंतर्गत आपको अपने घर में सब्सिडी पर ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम (On Grid Solar System) लगाने की सुविधा मिलती है और किसी भी Grid Connected Solar System लगाने के लिए आपको अपने संबंधित बिजली विभाग से अनुमति लेना होगा। इस प्रक्रिया में आपको सरकार द्वारा Technical Feasibility Report भी मिलती है। लेकिन, इस योजना में दिक्कत यह आ रही है कि जो लोग Feasibility Report के लिए अपना एप्लिकेशन दे रहे हैं, उनका फिजिबिलिटी रिपोर्ट आ नहीं पा रहा है।

इसके पीछे दो कारण मुख्य हैं -

  1. देश में अभी चुनाव चल रहे हैं। इसलिए अभी सरकारी योजनाओं पर काम नहीं हो रहा है।
  2. सरकारी पोर्टल में कुछ तकनीकी खराबी।

लेकिन आज के समय में पूरे देश में गर्मी अपने चरम पर है और Power Cut की समस्या भी तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में पूरे देश में लगातार बिजली की सुविधा को पाने के लिए सोलर की तलाश जोरों पर है। वहीं, Feasibility Report की समस्याओं के कारण ग्राहक ये बोल रहे हैं कि हमें सब्सिडी न भी मिले तो कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन सोलर लगाने के लिए अप्रूवल तो मिल जाए। तभी तो हम सोलर लगा पाएंगे।

Zero Export Device लगाकर सोलर पैनल लगाये?

यदि आप लगातार बिजली कटौती और महंगी होती बिजली की समस्या से जूझ रहे हैं और आपकी  फिजिबिलिटी रिपोर्ट भी नहीं आ रही है, तो ऐसे में आप सोलर कैसे लगाएं? यह सवाल हमेशा आपके मन में रहता होगा।

तो, आप अपनी इस परेशानी को एक Zero Export Device लगा कर हमेशा के लिए खत्म कर सकते हैं। जीरो एक्सपोर्ट डिवाइस एक ऐसा डिवाइस होता है, जिसे लगा कर कोई भी ग्राहक  सब्सिडी के द्वारा सोलर पैनल नहीं लगवाने के बावजूद अपने महीने के अंत में आने वाले बिजली बिल को आसानी से कम कर सकते हैं। इस डिवाइस में बिजली के इंपोर्ट होने और एक्सपोर्ट होने की सुविधा होती है। यानी आपके सोलर पैनल से जितना आपका खपत होगा, सोलर पैनल से उतनी ही बिजली बनेगी। इसमें सोलर से बिजली एक्सपोर्ट नहीं होगा और आपके बाकी जेनरेशन को वह लॉस कर देगा। इस डिवाइस सोलर इन्वर्टर के साथ लगाया जाता है, जिसके बाद सोलर पैनल उतना ही बिजली बनाता है जिससे कि घर का लोड चल जाए। इस उपकरण को लगाने के बाद दिन के समय में जो भी बिजली के उपकरण है वो सोलर एनर्जी से चलता रहता है।

पूरी तरह से है लीगल

यदि कोई ग्राहक इस डिवाइस को लगाना चाहते हैं, तो इसमें कोई परेशानी नहीं है। इस डिवाइस को कोई भी काफी आराम से लगा सकते हैं। क्योंकि, नेशनल सोलर मिशन के प्रावधान में यह कहीं नहीं लिखा हुआ है कि कोई इसे नहीं लगा सकता है। मिशन का उद्देश्य है कि आप अपना बिजली खुद से ही अपने छत पर बनाइये, एक्स्ट्रा बिजली बने, तो उसे सरकार को बेचिए और सरकार इसके बदले आपको पैसे देगी। लेकिन, आज दिक्कत ये आ रही है कि ग्राहकों के मन में हमेशा एक ही सवाल रहता है कि उन्हें सरकार को बिजली बेचना है और नेट मीटर लगाना है। इसी कारण से उनके यहां सोलर लग ही नहीं पा रहा है। लेकिन Zero Export Device लगा कर आप अपने घर में बिजली की जरूरतों को सोलर से पूरा कर सकते हैं। बता दें कि किसी भी घर में बिजली की जरूरत दिन के समय में 40 प्रतिशत और रात के समय में 60 प्रतिशत रात में होती है। यदि आप इस डिवाइस को लगाते हैं, तो आप दिन में 40 प्रतिशत बिजली बिल को काफी आराम से बचा सकते हैं। इस पर आप अपने घर के सारे उपकरणों को आसानी से चला सकते हैं।

उदाहरण के तौर पर, आज के समय में पश्चिम बंगाल एक ऐसा राज्य है जहां पर नेट मीटर 5 किलो वाट से नीचे अप्रूव नहीं होता है। लेकिन, वहां भारी गर्मी के कारण लोग एसी का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करते हैं। तो, वहां पर Zero Export Device की मदद से जितने भी On Grid Solar System लगे हुए हैं, उस पर अपने घर के उपकरणों को आसानी से चलाए जा रहे हैं।

कैसे काम करता है Zero Export Device?

यह डिवाइस सोलर इन्वर्टर के साथ लगाया जाता है जिसके बाद सोलर पैनल उतना ही बिजली बनाता है जिसका घर के लोड चलता रहता है। इस उपकरण को लगाने के बाद दिन के समय में जो भी बिजली के उपकरण है वो सोलर एनर्जी से चलता रहता है। यदि आप 3 किलो वाट के  On Grid Solar System के लिए इस Zero Export Device को लगाना चाहते हैं, तो इस पर आपको करीब 8 से 10 हजार रुपये का खर्च आता है। इस डिवाइस की सेल्फ लाइफ 5 वर्ष आराम से होती है।

निष्कर्ष 

हमें उम्मीद है कि यह लेख आपको पसंद आएगा। यदि आप ऐसे ही विषयों के बारे में और अधिक जानकारी हासिल कर अपना जीवन आसान बनाना चाहते हैं, तो नियमित रूप से हमारे साथ बने रहें। वहीं, यदि अपने घर में सोलर सिस्टम लगा कर खुद को बिजली के मामले में पूरी तरह से आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं, तो अभी हमसे संपर्क करें। हमारे इंजीनियर आपकी मदद के लिए हमेशा ही तैयार रहते हैं। आपकी जरूरतों को देखते हुए, वे आपकी साइट पर जाएंगे और आपको आगे की राह दिखाएंगे।

4 comments

Bankim

Bankim

I am interested

Raj Kumar Maurya

Raj Kumar Maurya

Aap log engineer visit ke naam per Paisa le lete ho na visit karvate ho ya company fraud hai kya aaj 25 din ho gaya hai payment kiye engineer visit ke naam per lekin abhi tak koi aaya nahin na hi to aapka toll free number lagta hai na jo madam aapke baat ki thi ab vah bhi phone nahin uthati

SATENDER.Negi

SATENDER.Negi

hoom chale

Mohd

Mohd

5 kilowatt

Leave a comment

ഏറ്റവും കൂടുതൽ വിറ്റഴിക്കപ്പെടുന്ന ഉൽപ്പന്നങ്ങൾ

Engineer VisitEngineer Visit
Loom Solar Engineer Visit
Sale priceRs. 1,000 Regular priceRs. 2,000
Reviews
Dealer RegistrationLoom Solar Dealer Registration
Loom Solar Dealer Registration
Sale priceRs. 1,000 Regular priceRs. 5,000
Reviews