6kW के सोलर पैनल इंस्टालेशन इन मथुरा, उत्तर प्रदेश

मथुरा, उत्तर प्रदेश: इंडिया एक आध्यात्मिक भूमि है, अतः मथुरा के वृन्दावन भगवान श्री कृष्णा कि जन्म भूमि होने के कारण एक बड़ा पर्यटन स्थल है| वृन्दावन कला एवं संस्कृति का बेजोड़ संगम भी है| यह दिल्ली से लगभग 100 किलो मीटर उत्तर प्रदेश का धार्मिक स्थल है|

वृन्दावन, मथुरा में सोलर सलूशन की आवस्य्क्ता क्यों पड़ी?

why solar in Mathura

जैसा कि हम सभी ही जानते है कि वृन्दावन हिन्दू समाज का एक बड़ा आद्यात्मिक पर्यटन स्थल है| यहाँ का मुख्य आकर्षण यहाँ के मंदिर हैं जिसको देखने यहां भारत से बाहर के पर्यटक भी बड़ी तादात में आते हैं| हर साल के बढ़ती पर्यटकों की संख्या के कारण यहाँ बिजली की खपत बहुत ही ज्यादा बढ़ती जा रही थी| जिसके कारण स्थानीय लोग बढ़ते बिजली की बिलों और कभी भी बिजली के चले जाने से बहुत ही ज्यादा परेशान थे| अतः यहां के लोगों की परेशानियों एवं जरूरतों को मद्देनजर रखते हुए Loom Solar ने यहाँ 6 किलो वाट का सोलर सलूशन लगाया जिससे की अब यहाँ के स्थानीय लोगों को बिजली के बढ़ते बिलों एवं बिजली की कटौती की समस्यांओ से निजात मिली है| 

आखिर व्यवसायिक समाज में सोलर सलूशन की मांग क्यों बढ़ रही है?

commercial R.O. Water plant

ये तो हम सभी जानते ही हैं कि व्यक्तिगत एवं व्यवसायिक तौर पर इस्तेमाल किये जाने वाली दोनों बिजली की दरों में अंतर होता है| क्यूंकि हम यहाँ उत्तर प्रदेश की बात कर रहे हैं तो आपको बताना चाहेंगे कि उत्तर प्रदेश में व्यवसायिक तौर पर इस्तेमाल की जाने वाली बिजली की दर 14 रु/यूनिट है और साथ ही पावर कट की बहुत बड़ी समस्या भी है| अगर बात करें व्यावसायिक इलाके जैसे कि वृन्दावन में लगभग 15 से 20 घण्टे काम होता है|

 

वर्तमान समय में बिजली हर जगह, चाहे वो घर हो या व्यवसाय, की प्राथमिक आवस्य्क्ता है| क्युकी व्यवसायिक बिजली की दरें बहुत ज्यादा है, जिसके कारण उधोगपति सरकारी बिजली को इस्तेमाल नहीं करना चाहते| और इस आवस्य्क्ता की पूर्ति का परम्परागत साधन है जनरेटर| परन्तु ईंधन की बढ़ती कीमतों एवं अन्य कारणों की वजह से व्यवसाय में इसका भी इस्तेमाल करना उचित नहीं समझते| क्युकी सोलर में इस तरह की कोई भी समस्या नहीं है एवं साथ ही यह पर्यावरण के लिए भी बेहतर है| अतः आज कल हर तथ्य को ध्यान में रखते हुए सोलर सलूशन व्यवसायधारकों की पहली पसंद बन चुका है | 

सोलर पैनल को कैसे लगवाया जाये?

how to install solar panels

तो यहाँ हम आपको बताएँगे की आप सोलर पैनल कैसे लगवा सकते है| वृन्दावन के RO वाटर प्लांट के उधोगपति कैलाश गुप्ता (Vrindavan Mathura), जिनको सोलर पैनल की आवस्य्क्ता थी, इंटरनेट पे जानकारी ढूंढ रहे थे| वहीं से उनको Loom Solar की ऑफिसियल वेबसाइट के बारे में पता चला| ऑफिसियल वेबसाइट से प्रारंभिक जानकारी लेकर वो अपने नजदीकी सोलर डिस्ट्रीब्यूटर मोहित कुमार गौतम और इन्जीनर अंकित गौतम जी से मिले| मनोज जी एक सोलर एन्टेर्प्रेनुएर हैं, जो लगभग तीन महीने से Loom Solar के साथ जुड़कर काम कर रहे हैं| मनोज जी ने उनको सोलर के बारे में काफी कुछ बताया उनमे से कुछ खास बाते हम आपके साथ यहाँ शेयर कर रहे हैं.

 

 

सोलर पैनल एक दीर्घकालीन निवेश है अतः यह बहुत जरुरी है कि सोलर पैनल की क्वालिटी अच्छी हो, जिससे की लम्बे समय तक एक अच्छा आउटपुट उपभोगता को मिलता रहे| मोहित जी ने Loom Solar के 375 वाट के पैनल के बारे में बताया कि यह पैनल एक मोनो क्रिस्टलाइन पैनल है जो कि low लाइट एवं क्लॉउडी वेदर में भी पूर्णतया कार्य करता है| इस पैनल में इस्तेमाल किया हुआ सोलर सेल जर्मनी का बनाया हुआ है| जैसा कि हम सभी जानते हैं कि जर्मनी अपनी गुढ़वत्ता एवं भारत अपने विश्वस्नीयता से लिए जाना जाता है| अतः आप इस सोलर पैनल को पुरे विस्वास के साथ चुन सकते हैं|

 

solar inverter

RO वाटर प्लांट का सतत एवं अधिकतम रेगुलर लोड जांचने के उपरांत मनोज जी ने उनको 6 किलो वाट का लुमिनोस इन्वेर्टर एवं 8 सोलर बैटरियों का सुझाव दिया| 

इन उपभोगता की सबसे बड़ी समस्या सोलर पैनल स्थापन की थी| भारत में आपको सोलर पैनल, इन्वेर्टर एवं बैटरी के पॉपुलर ब्रांड्स मिल जायेंगे परन्तु बैलेंसिंग सिस्टम के पॉपुलर एवं अच्छे ब्रांड्स बहुत ही मुश्किल से मिलेंगे बैलेंसिंग सिस्टम से मेरा मतलब पैनल स्टैंड, DC वायर, Nut & Bolts, इत्यादि से है| ये सभी प्रोडक्ट्स आपको स्थानीय मार्किट में भी मुश्किल से ही मिलेंगे|   

सोलर पैनल स्थापन में आने वाली परेशानियों का समाधान कैसे हुआ?

solar expert

लूम सोलर आज सोलर के क्षेत्र में भारत की नंबर 1 पर आने वाली कंपनियों में से है| जिसकी एक मात्रा वजह है कि यह कंपनी अपने उपभोगता एवं सहभागी को अधिक से अधिक सहायता प्रदान करती है एवं हर वक़्त उनके लिए पूरी जागरूकता से सुविधाओं को प्रदान करती है| अतः जैसे ही मनोज जी ने लूम सोलर को इस परेशानी से अवगत कराया तो तुरंत ही कंपनी ने अपने सर्विस इंजीनियर विकास कुमार जी को साइट पर भेजा| जिन्होंने साइट पर पहुंचकर सोलर सलूशन स्थापन की समस्या का समाधान किया एवं उसको स्थापित भी किया| इस स्थापन की सबसे बड़ी समस्या पैनल स्टैंड किट की थी, जैसे सोलर पैनल एवं मॉउंटिंग स्ट्रक्चर के होल का मैच ना होना| इसके समाधान के लिए मॉउंटिंग स्ट्रक्चर में एक एक कर के होल्स किये गए| साथ ही इस बात का भी ख्याल रखा गया की किसी भी प्रकार की छाया से पैनल ढके नहीं| 

 

इस सोलर सलूशन स्थापन से इस बात की भी जानकारी मिली कि यदि हम पैनल को स्थापित कर रहे हैं तो सोलर पैनल, इन्वेर्टर, बैटरी के साथ साथ बैलेंसिंग सिस्टम का भी उचित ध्यान रखना बेहद जरुरी है|

 

यदि आप भी सोलर सलूशन को लगवाने के बारे में सोंच रहे हैं तो तुरंत ही लूम सोलर कि ऑफिसियल वेबसाइट, जिसका लिंक निचे दिया हुआ है, अथवा नजदीकी डीलर या डिस्ट्रीब्यूटर Braj Solar Energy से संपर्क कर सकते हैं|
Next article क्यों ग्रिड कनेक्टेड सोलर सिस्टम की मांग दिन प्रति दिन बढ़ती जा रही है ?

Comments

zBZRIsTOg - November 15, 2020

zHBWTEyRboJjLnX

lmCHGXPsj - November 15, 2020

FuLlgwGdJyCDm

Leave a comment

* Required fields