2023 में सोलर पैनल लगवाने का खर्च क्या होगा?

भारत में बीते कुछ वर्षों में सोलर एनर्जी (Solar Energy in India) का दायरा तेजी से बढ़ा है। बता दें कि साल 2018 में देश की सौर ऊर्जा क्षमता (Solar Capacity In India), जहाँ करीब 22 गीगा वाट थी। आज उसका दायरा बढ़ कर करीब 61 गीगा वाट हो गया है।हालांकि, 2022 का साल सोलर इंडस्ट्री (Indian Solar Industry) के लिए उतना अच्छा नहीं रहा है, लेकिन उम्मीद है कि आने वाला साल इसके लिए काफी अच्छा रहेगा।

आइये जानते हैं वैसी क्या वजहें रहीं, जिसके कारण 2022 में सोलर इंडस्ट्री का ग्रोथ उम्मीदों के मुताबिक नहीं हुआ है -

नीतियों में बदलाव (Solar Policy Changes in India) - बता दें कि पहले Residential Rooftop Solar Panel का बाजार अपने - आप में एक बड़ा बाजार था। उसके लिए सरकार द्वारा एक राष्ट्रीय पोर्टल की शुरुआत की गई और बीते कुछ समय के दौरान नीतियों में बार - बार कोई न कोई बदलाव होते रहे। जैसे कि नेट मीटर के लिए ALM की नीति बनाई गई कि जो Solar Manufacturer, एएलएम की लिस्ट में रहेंगे, वही Grid Connected Solar System लगा सकते हैं। इसके बाजार काफी अस्थाई हो गया।

कीमतों का बढ़ना - 2019 से सोलर सिस्टम की कीमतों में अब तक करीब 40 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है। यानी उस समय जो सोलर सिस्टम 12 हजार रुपये में मिलता था और उसी प्रोडक्ट की कीमत करीब 20 हजार रुपये हो गई है। हालांकि, इस दौरान तकनीक और दक्षता में काफी सुधार आया है।

कोरोना महामारी - 2020 में कोरोना महामारी आने के बाद पूरी दुनिया की सप्लाई चैन बुरी तरह से बाधित हो गई है। इस वजह से आज पूरी दुनिया में महंगाई अपने चरम पर है। इन्हीं सब कारणों से 2022 में सोलर इंडस्ट्री कोई कमाल न कर सका।

हालांकि, 2023 में इस इंडस्ट्री से काफी उम्मीदें हैं। आइये जानते हैं क्यों? 

भारत की सरकार ने सोलर इंडस्ट्री को लेकर जो नीतियां बनाई हैं, उससे कच्चे उत्पादों की काफी कम होगी और एक बार नीतियां स्थायी हो जाने के बाद, बाजार भी स्थायी हो जाएगा। यही कारण है कि हमें साल 2023 से काफी उम्मीदें हैं। 

सोलर इंडस्ट्री के विभिन्न क्षेत्र क्या हैं (What are the different sectors of the solar industry) 

आज के समय में सोलर इंडस्ट्री कई भागों में बँटा हुआ है। इसका सबसे बड़ा कैटेगरी Utility है, जिसमें आज के दिन Open Access Model चल रहा है। जैसे कि - पार्क, एयरपोर्ट, सोलर फॉर्मिंग, आदि।

क्या धीमी हो गई है रूफटॉप सोलर की रफ्तार? (Has the pace of rooftop solar slowed down?)

रूफटॉप सोलर को हमारी छतों के ऊपर लगाया जाता है। यह एक बड़ा बाजार है। लेकिन आज के समय में यह काफी धीमा हो गया।

बता दें कि इसमें Commercial और Industrial सबसे बड़ा सेक्टर है। इसकी वजह यह है कि आज नीतियों में बदलाव के कारण मैन्युफैक्चरर का ALM List में नाम होना जरूरी हो गया है और इसके बिना कोई भी DISCOM उनके नेट मीटर को स्वीकृति ही नहीं देगी।

कैसा है Off Grid Solar System का मार्केट? (कैसा है Off Grid Solar System का मार्केट?)

बता दें कि आज के समय में Residential का लगभग पूरा मार्केट Off Grid Solar System पर टिका हुआ है। इनको सरकार से कोई लेना - देना नहीं है। ये सोलर पैनल के साथ, लिथियम ऑयन बैटरी और इंवर्टर खरीद कर खुद को बिजली के मामले में आत्मनिर्भर बना सकते हैं।

भारत के विभिन्न सोलर ब्रांड्स कौन से हैं? (What are the different solar brands in India?)

आज भारत के सोलर कम्यूनिटी में कई कंपनियां है, जो अलग अलग सेगमेंट में काम कर रहे हैं और उनके उत्पादों की कीमतें भी अलग अलग होती हैं। Loom Solar, Waaree, Tata, Adani, Vikram, Renewsys, Jinko, Trina जैसे कुछ ऐसे मैन्युफैक्चरर हैं, जो आज Production Capacity के हिसाब से नंबर वन की कैटेगरी में आते हैं। बता दें कि इन कंपनियों की वार्षिक सोलर बिजली उत्पादन क्षमता 1 गीगावाट के करीब है।

वहीं, इसके बाद बारी आती है कि मध्य आकार के सोलर मैन्युफैक्चरर की। ये ऐसी कंपनियां हैं, जिनकी स्थानीय बाजार पर काफी पकड़ है। जैसे कि राजस्थान में INA की, पश्चिम बंगाल में Shobha Solar की और हरियाणा में Satvik Solar की। इन कंपनियों की उत्पादन क्षमता 250 मेगा वाट से लेकर 500 मेगा वाट तक है। वहीं, इस कड़ी में अगली बारी आती है Retail Market की। बता दें कि ये एक Consumer Brand होते हैं। इसमें लूम सोलर (Loom Solar) सबसे अग्रणी कंपनी है। इसके बाद बारी आती है Luminious, Exide, UTL जैसी कंपनियों की।

क्या होता है रिटेल कन्ज्यूमर ब्रांड (What is retail consumer brand)? 

रिटेल कन्ज्यूमर ब्रांड का अर्थ यह है कि ये पहले ब्रांड बनाते हैं। फिर अपने उत्पादों को अपने अंतिम ग्राहक तक सीधे पहुँचाते हैं। इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इस प्रक्रिया में अंतिम ग्राहक ब्रांड को सीधे जानते हैं, बजाय इसके कि उसे बनाया किसने है।

भारत में सोलर पैनल की कीमत (Solar panel price in India)

उत्पादों की अंतिम कीमत किसी भी इंडस्ट्री की सबसे महत्वपूर्ण कड़ी है। नीचे हम आपको भारत में सोलर पैनलों की कीमतों के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं।

आइये जानते हैं सोलर पैनलों की कीमत के बारे में (Know about solar panel price)

जानिए सोलर पैनलों की कीमत के बारे में (Know about solar panel price)

सोलर पैनल एक ऐसा उपकरण है, जो सूर्य की रोशनी को विद्युत ऊर्जा में बदल देता है। बता दें कि यह एक फोटोवोल्टिक मॉड्यूल होता है और आज के समय में पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा सोलर पैनल सिलिकॉन से बनते हैं। (https://www.energy.gov/eere/solar/how-does-solar-work)

वहीं, सोलर पैनल मुख्यतः 3 प्रकार के होते हैं, जिसे पॉलीक्रिस्टलाईन सोलर पैनल (Polycrystalline solar panel),  मोनोक्रिस्टलाईन सोलर पैनल (Monocrystalline solar panels) और बाईफेसियल सोलर पैनल (BiFacial Solar Panel) कहा जाता है। 

a. पॉलीक्रिस्टलाईन सोलर पैनल (Polycrystalline solar panel)

पॉलीक्रिस्टलाईन सोलर पैनल (Polycrystalline solar panel) का फायदा यह है कि यह पर्याप्त धूप में आपको अच्छी बिजली बना कर देगा। लेकिन इसकी Limitation यह है कि इसे ज्यादा जगह की जरूरत पड़ती है। इसे वैसे जगहों पर लगाया जाता है, जहाँ जगह की कोई कमी नहीं है, जैसे - खेत।

b. मोनोक्रिस्टलाईन सोलर पैनल (Monocrystalline solar panels)

इसी Limitation को दूर करने के लिए मोनोक्रिस्टलाईन सोलर पैनल (Monocrystalline solar panels) को लाया गया है, जो कम धूप में और Cloudy Weather में भी आपको पूरी बिजली बना कर देगा। बता दें इसके सेल शुद्ध और खामी रहित सिलिकॉन क्रिस्टल से बने होते हैं।

c. Bifacial Solar Panel

वहीं, आज के समय में Bifacial Solar Panel को सबसे अत्याधुनिक सोलर पैनल माना जाता है। यह एक ऐसा सोलर पैनल है, जो दोनों ही साइड से बिजली बनाने में सक्षम है। इसी वजह से यह कम समय में आपको ज्यादा बिजली बना कर देगा। साथ ही, इसे लगाने से आपके घर की सुंदरता भी बढ़ती है।

घर के लिए सोलर पैनल (Solar Panel for Home)

बता दें कि यदि आप अपने घर में सोलर पैनल लगाना चाहते हैं, तो इसका चयन आप अपनी जरूरत के हिसाब से करते हैं। जैसे यदि आप अपने घर में सोलर पैनल से सिर्फ मोबाइल चार्ज करना चाहते हैं या लाइट जलाना चाहते हैं, तो आप अपनी इन जरूरतों को 10-20 वाट के सोलर पैनल को लगा कर भी पूरा कर सकते हैं। वहीं, यदि आप 8-10 बल्ब और 3-4 पंखा वगैरह चलाना चाहते हैं, तो आप 1 किलो वाट का सोलर पैनल लगा सकते हैं। इसके अलावा यदि आप पानी का मोटर या फ्रिज चलाना चाहते हैं, तो आप 3 किलो वाट का सोलर पैनल ले सकते हैं। वहीं, यदि आप अपने घर में एसी लगाना चाहते हैं, तो आपको 5 किलो वाट का सोलर पैनल खरीदना होगा। इससे आप बिजली के मामले में लगभग पूरी तरह से आत्मनिर्भर बन जाएंगे।

सोलर सिस्टम के प्रकार (Types of Solar System)

बता दें कि आज के समय में, सोलर सिस्टम के 3 टाइप हैं, जिसे On Grid, Off Grid और Hybrid का कहा जाता है। जैसे यदि आप किसी कमर्शियल सेक्टर में हैं, तो आपको On Grid Solar System लेना होगा। जहाँ आपके यहाँ सोलर पैनल से हर महीने जितनी बिजली बनेगी, उसी के हिसाब से आपको सरकार द्वारा बिजली बिल में सब्सिडी भी दी जाएगी। वहीं, यदि आप Residential Sector के लिए सोलर पैनल खरीदना चाहते हैं, तो आप Off Grid Solar System की ओर रुख कर सकते हैं। यहाँ आपको इंवर्टर और बैटरी की जरूरत पड़ेगी। ऑफ ग्रिड सोलर सिस्टम के जरिए आप खुद को बिजली के मामले में पूरी तरह से आत्मनिर्भर बना सकते हैं। दूसरी ओर, आप Hybrid Solar Panel को सरकारी बिजली और बैटरी, दोनों पर चला सकते हैं।

आज के समय में बाजार में सोलर पैनल की तलाश ग्राहकों के अलावा डीलरो, डिस्ट्रीब्यूटरों और मैन्यूफैक्चररों को भी रहता है। हालांकि आज के समय में बाजार में इसकी कीमतों को लेकर काफी अनिश्चिता बनी हुई है और ग्राहकों को काफी कन्फ्यूजन का सामना करना पड़ता है। 

बता दें कि आज के समय में बाजार में 10 वाट से लेकर 550 वाट तक के सोलर पैनल आसानी से उपलब्ध हैं। आज सोलर पैनल तीन कैटेगरी में आते हैं - Small Solar Panel, 12 Volt Solar Panel, 24 Volt Solar Panel। 

छोटे सोलर पैनल की कीमत (Cost of Small Solar Panel)

एक ओर Small Solar Panel का इस्तेमाल आम तौर पर सबसे ज्यादा लाइट के लिए, मोबाइल चार्जिंग, स्ट्रीट लाइट, खेती कार्यों में, DIY Project, Traffic Control, आदि जैसे कार्यों में होता है। बता दें कि बाजार में इस कैटेगरी में 10 वाट से लेकर 75 वाट तक के सोलर पैनल उपलब्ध हैं, जिसकी कीमत 1000 रुपये से लेकर 3500 रुपये तक होती है। यह साइज में एक लैपटॉप जितना और वजन में 3 किलो होता है।

12V सोलर पैनल की कीमत (Cost of 12V Solar Panel)

वहीं, 12 Volt Solar Panel का इस्तेमाल वैसे जगहों पर होता है, जिन्हें एक 12 वोल्ट की बैटरी चार्ज करनी है। बता दें कि आज के समय में बाजार में 20 एएच से लेकर 80 एएच तक की बैटरी की काफी माँग है और इतनी क्षमता की बैटरी को चार्ज करने के लिए आपको आपको 100 वाट से लेकर 200 वाट तक का सोलर पैनल लगता है। इस सोलर पैनल की कीमत 8500 रुपये से लेकर 10500 रुपये तक होती है। वहीं, इसकी साइज 4 फीट और वजन 8 किलो होती है।

24V सोलर पैनल की कीमत (Cost of 24V Solar Panel)

वहीं, 24 Volt Solar Panel, आज के समय में सबसे लोकप्रिय सोलर पैनल है। इस कैटेगरी में सामान्य रूप से 350 वाट से लेकर 550 वाट तक के पैनल होते हैं। चाहे Residential हो, चाहे Commercial इस सोलर पैनल का इस्तेमाल हर सेक्टर में होता है। यह एक Highly Efficient Solar Panel होता है, जिसकी Efficiency Rate 25 प्रतिशत से भी ज्यादा होती है। यह आकार में एक सिंगल बेड जितना और वजन में 25 से 28 किलो तक का होता है। इस सोलर पैनल की कीमत 22 हजार रुपये से लेकर 25 हजार रुपये तक होती है।

हालांकि, सोलर पैनलों की कीमत इस बात पर निर्भर करती है कि आप किस ब्रांड के सोलर पैनल को चुन रहे हैं। इस प्रकार अगर आज सारे सोलर पैनलों की बात की जाए, तो यह बाजार में 10 वाट से लेकर 445 वाट और 550 वाट तक के रेंज में उपलब्ध है, जिसकी कीमत 1000 रुपये से लेकर 25 हजार रुपये तक है। एक सिंगल पैनल से आप जितना चाहें, उतनी क्षमता के सोलर सिस्टम को अपने घर में इंस्टाल कर सकते हैं।

घर के लिए सोलर पैनलों की कीमत क्या है? (What is Solar panel for home price)

आज के समय में सोलर पैनल को लेकर बाजार में कई गलतफहमियां हैं। आज लोग सोलर पैनल को ही सोलर सिस्टम (Solar System) मान लेते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है। एक सोलर सिस्टम में सोलर पैनल के अलावा बैटरी, इंवर्टर, स्टैंड, वायर, चार्ज कंट्रोलर आदि जैसी कई चीजें शामिल होती हैं और सभी के सेट को सोलर सिस्टम कहा जाता है।

यदि आप अपने घर में सोलर पैनल लगाना चाहते हैं, तो इसे आप अपनी जरूरत के हिसाब से लगा सकते हैं। जैसे कि यदि आप अपने घर में लाइट, मोबाइल चार्जिंग जैसी छोटी छोटी चीजों के लिए सोलर पैनल लगाना चाहते हैं, तो आप अपने यहाँ छोटा सोलर पैनल (Small Solar Panel) लगा सकते हैं, जिसमें 10 वाट से लेकर 75 वाट तक के सोलर पैनल आते हैं।

वहीं, यदि आप अपने घर में 12 वोल्ट में आने वाली 20 AH से लेकर 80 AH तक की बैटरी को सोलर पैनल से चार्ज करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको 100 वाट से लेकर 200 वाट तक के सोलर पैनल को खरीदना होगा। इस पैनल पर आप लाइट, मोबाइल चार्जिंग के अलावा डीसी फैन आदि भी चला सकते हैं।

1kW Solar Panel

वहीं, यदि आप अपने घर में 8 से10 बल्ब और 3-4 फैन आदि चलाना चाहते हैं, तो आप 1 किलो वाट का सोलर पैनल (1kW Solar Panel) खरीद सकते हैं। इसके अलावा, यदि आप अपने घर में पानी का मोटर चलाना चाहते हैं तो आपको 3 किलो वाट का और एसी चलाने के लिए 5 किलो वाट का सोलर पैनल लगाना होगा।

यदि आप अपने घर में सिर्फ महीने के अंत में आने वाले बिजली बिल को कम करना चाहते हैं, तो आपका काम On Grid Solar System से भी चल जाएगा। वहीं, यदि आप खुद को बिजली के मामले में पूरी तरह से आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं, तो आपको Off Grid Solar System लगाना होगा। जिसमें आपको सोलर पैनल के साथ लिथियम ऑयन बैटरी और इंवर्टर आदि लेना होगा। वहीं, यदि आप इसे बिजली और बैटरी, दोनों पर चलाना चाहते हैं, तो आप Hybrid Solar System को अपना सकते हैं।

आज बाजार में सोलर पैनलों की रेंज 10 वाट से लेकर 550 वाट तक उपलब्ध है और यदि उदाहरण के तौर पर 1 किलो वाट का सोलर पैनल लगाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको 500 वाट के दो पैनल खरीदने होंगे। यदि 3 किलो वाट का लगाना चाहते हैं, तो 500 वाट के 6 पैनल खरीदने होंगे। ये पैनल्स ऐसे होते हैं, जिनकी Efficiency Rate 25 फीसदी से अभी अधिक होती है। 

बता दें कि सोलर पैनल मुख्यतः तीन प्रकार के होते हैं, जो निम्न हैं -

  1. Polycrystalline solar panel
  2. Monocrystalline solar panels
  3. Bifacial solar panels

इनमें Polycrystalline solar panel सबसे अधिक पुरानी तकनीक है। वैसे तो यह बिजली ठीक से ही बनाता है, लेकिन इसे काफी जगह और धूप की जरूरत पड़ती है। वहीं, मोनोक्रिस्टलाईन सोलर पैनल (Monocrystalline solar panels) की Efficiency Rate इससे कहीं अधिक होती है और यह कम धूम होने या आसमान में बादल छाये होने के बावजूद पूरी बिजली बनाने में सक्षम है। यही कारण है कि आज इसकी काफी लोकप्रियता है। वहीं, Bifacial Solar Panel ऐसा सोलर पैनल होता है, जो दोनों ओर से बिजली बनाने में सक्षम है। इस वजह से इसमें कम समय में भी पूरी बिजली बनती है। इस पैनल को लगाने से घर की सुंदरता भी बढ़ती है।

यदि आप अपने घर में Polycrystalline solar panel लगाते हैं, तो आपको प्रति किलो वाट करीब 70 हजार रुपये खर्च करने पड़ते हैं। वहीं, यदि Monocrystalline solar panels लगाते हैं, तो आपको प्रति किलो वाट करीब 85 हजार रुपये खर्च करने पड़ते हैं। वहीं, पूरे सोलर सिस्टम को लगाने में आपको करीब 1 लाख रुपये से लेकर 1.20 लाख रुपये तक का खर्च आएगा। हालांकि, यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आप चुन किस ब्रांड को रहे हैं।

12 वोल्ट सोलर पैनल की कीमत कितनी होगी? (Whats is 12 volt solar panel price) 

आज के समय में पूरे देश में Power Cut की समस्या काफी बढ़ गई है। ऐसे में इमरजेंसी लाइट, मोबाइल चार्जिंग, डीसी फैन चलाने जैसी सुविधाओं के लिए आप एक छोटी बैटरी रख सकते हैं।

बता दें कि आज बाजार में जितनी भी बैटरी होती है, सभी 12 वोल्ट की होती है। लेकिन उनका एम्पीयर अलग-अलग होता है। वहीं, 6 एएच से लेकर 80 एएच तक की बैटरी को छोटी बैटरी की कैटेगरी में गिना जाता है।

इस बैटरी से आप बल्ब, यूपीएस चार्जिंग, मोबाइल चार्जिंग, टीवी, फैन जैसी कई चीजें चला सकते हैं। अपनी बैटरी को चार्ज करने के लिए आप सरकारी बिजली का इस्तेमाल तो कर ही सकते हैं। लेकिन आज भी देश के कई हिस्सों में बिजली जाने के बाद, कई दिनों तक नहीं आती है। ऐसे में लोगों को कई मुश्किल का सामना करना पड़ता है।

तो ऐसे में अपनी बैटरी की चार्ज करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप अपने यहाँ सोलर पैनल खरीद लें। इससे आपकी छोटी छोटी जरूरतों के लिए सरकारी बिजली पर निर्भरता काफी कम हो जाएगी और यदि आप कोई दुकान, स्टोर आदि चला रहे हैं, तो आपको अपने बिजनेस में भी काफी सहूलियत मिलेगी।

यदि आप अपने घर में 12 वोल्ट का सोलर पैनल लाते हैं, तो बता दें कि यह पैनल आपको 10 वाट से लेकर 200 वाट की क्षमता तक आसानी से मिलेगा और इससे आप 80 AH तक की बैटरी को आसानी से चार्ज कर सकते हैं।

इस सोलर पैनल को आप कहीं भी आसानी से शिफ्ट कर सकते हैं। यही कारण है कि इसे मिनी सोलर पैनल (Mini Solar Panel) या पोर्टेबल सोलर पैनल (Portable Solar Panel) भी कहा जाता है।

बता दें कि 12 वोल्ट सोलर पैनल का मतलब है कि वह 12 वोल्ट के इंवर्टर को सपोर्ट करेगा। इस सिस्टम में आपको सोलर पैनल, इंवर्टर और बैटरी के अलावा Charge Controller की भी जरूरत पड़ती है, जो बैटरी और सोलर पैनल के बीच की कड़ी होती है और यह बैटरी को ओवर चार्जिंग के खतरे से बचाता है।

आज बाजार में 12 Volt Solar Panel की कीमत 1000 रुपये से लेकर 8500 रुपये के बीच है। हालांकि, यह कीमत ब्रांड के अनुसार अलग - अलग हो सकती है।

क्या है 1 किलो वाट सोलर पैनल की कीमत (What is 1kw solar panel price)

एक किलो वाट का सोलर पैनल (1 KW Solar Panel) वैसे लोगों के लिए अच्छा विकल्प है, जिनके घरों में न तो बिजली की खपत ज्यादा है और न ही उनका बजट ज्यादा है।यह सोलर पैनल वैसे लोगों के लिए सबसे अच्छा है, जिनके घरों में हर महीने 100 यूनिट से लेकर 150 यूनिट तक बिजली की खपत होती है, लेकिन वे सोलर सिस्टम (Solar System) का उपयोग कर अपने बिजली बिल को जीरो कर सकते हैं। 

बता दें कि आज बाजार में 3 कैटेगरी के सोलर सिस्टम उपलब्ध हैं, जो On Grid Solar System, Off Grid Solar System और Hybrid Solar System है।

बता दें कि आज देश के अधिकांश क्षेत्रों में बिजली आसानी से उपलब्ध है। लेकिन Power Cut की समस्या निरंतर बनी रहती है। हालांकि यह परेशानी ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा है। यदि आप सिर्फ हर महीने आने वाले अपने बिजली बिल को कम करना चाहते हैं या आप सोलर सिस्टम का इस्तेमाल कर्मिशियल सेक्टर में करना चाहते हैं, तो आपके लिए On Grid Solar System अच्छा विकल्प है। इस सोलर सिस्टम को आपके घर में मौजूद सरकारी बिजली कनेक्शन से ही जोड़ दिया जाता है और महीने भर में बनने वाले सोलर बिजली के अनुसार आपकी बिल कम हो जाती है।

वहीं, यदि आप खुद को बिजली के मामले में पूरी तरह से आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं, तो आपके लिए Off Grid Solar System सबसे बढ़िया विकल्प है। इस सिस्टम में आपको सोलर पैनल के साथ इन्वर्टर, बैटरी, सोलर स्टैंड, चार्ज कंट्रोलर, वायर जैसी चीजों को भी खरीदना पड़ता है।

वहीं, Hybrid Solar System ऐसा सिस्टम होता है, जिसे आप सरकारी बिजली के साथ ही, सोलर सिस्टम पर भी चला सकते हैं और अपने बिजली बिल को कम कर सकते हैं। वहीं, अगर बात सोलर पैनल के विभिन्न प्रकारों (Types of solar panel) की, की जाए तो ये Polycrystalline solar panel, Monocrystalline solar panels और Bifacial solar panels जैसे तीन प्रकार के होते हैं।

बता दें कि Polycrystalline solar panel ऐसा सोलर पैनल होता है, जिसे छोटे crystallites से बनाया जाता है। यह सोलर सेक्टर में सबसे पुरानी टेक्नोलॉजी है। अच्छी धूप होने पर यह पूरी बिजली बनाती है। लेकिन धूप कम होने पर यह ठीक से बिजली नहीं बना पाती है। 

इन्हीं समस्याओं को दूर करने के लिए, Monocrystalline solar panels को बाजार में लाया गया है, जो कम धूप में भी या आसमान में बादल छाये होने के बावजूद भी पूरी बिजली बनाने में सक्षम है। इस पैनलको silicon crystallized से निर्मित single crystal से बनाया जाता है और इसकी Efficiency Rate भी ज्यादा होती है।

वहीं, Bifacial Solar Panel, दोनों अपने दोनों साइड से बिजली बनाने में सक्षम है। यह बाजार में सबसे अत्याधुनिक तकनीकों से लैस सोलर पैनल है। यह कम समय में ही आपको पूरी बिजली बना कर देती है और इसके लिए आपको ज्यादा जगह की भी जरूरत नहीं पड़ती है। साथ ही, इसे छत पर लगाने से आपके घर की सुंदरता भी बढ़ती है।

यदि आपके पास 1 BHK से लेकर 3 BHK तक का घर है और आप अपने पंखा, कूलर, टीवी, फ्रिज, बल्ब, लैपटॉप, वाशिंग मशीन, आदि को चलाने के लिए अपने घर में सोलर सिस्टम अपनाना चाहते हैं, तो आप 1 KW Solar System को अपना सकते हैं।

यदि आप 1 किलोवाट का सोलर पैनल लेना चाहते हैं, तो इसमें आपको 24 वोल्ट और 500 वाट का दो पैनल खरीदना होगा। वहीं, यदि बात पूरे सोलर सिस्टम की हो, तो इसमें 150 AH की दो बैटरी, 1100VA का सोलर इंवर्टर, डीसी वायर और सोलर स्टैंड आएगा।

यदि आप अपने यहाँ Polycrystalline solar panel लगाना चाहते हैं, तो आपको 1 किलो वाट के लिए करीब 70 हजार रुपये खर्च करने पड़ते हैं। वहीं, यदि Monocrystalline solar panels लगाते हैं, तो आपको 1 किलो वाट के लिए करीब 85 हजार रुपया खर्च करना होगा।

इसके अलावा, यदि आप पूरा Solar System Install करना चाहते हैं, तो इसमें आपको प्रति किलो वाट करीब 1 लाख रुपये से लेकर 1.20 लाख रुपये तक का खर्च आएगा। 

जैसा कि यदि आपके महीने का बिजली खपत 100 यूनिट से लेकर 150 यूनिट तक है, तो आज के समय में देश के किसी भी राज्य में आपको प्रति यूनिट 10 रुपये से लेकर 15 रुपये प्रति यूनिट का बिजली बिल आसानी से देना पड़ता है।

लेकिन अपने घर में 1 किलो वाट के सोलर सिस्टम लगा कर आप अपने महीने के बिजली बिल को जीरो कर सकते हैं।

बता दें कि आज आपको किसी भी सोलर पैनल पर 25 वर्षों की गारंटी आसानी से मिलती है। इस प्रकार, आप एक बार सोलर पैनल खरीदने पर आप वर्षों के लिए बिजली के मामले में न सिर्फ आत्मनिर्भर हो सकते हैं, बल्कि लाखों की बचत भी कर सकते हैं।

क्योंकि, आपने सोलर सिस्टम में जो पैसा लगाया है, उसका ROI आपको कुछ ही वर्षों में मिल जाएगा। वहीं, यदि आपको लग रहा है कि सोलर सिस्टम के पीछे इतना निवेश करना आपके लिए मुश्किल है, तो आप सोलर लोन (Solar Loan in India) की सुविधा का आनंद भी आसानी से ले सकते हैं, जो आज कार लोन (Car Loan) और होम लोन (Home Loan) की तरह आपके लिए आसानी से उपलब्ध है। 

इस विषय में अधिक जानकारी के लिए आप https://loan.loomsolar.com/ पर विजिट कर सकते हैं।

छोटे सोलर पैनल की कीमत कितनी होती है? (What is the small solar panel price)

छोटे सोलर पैनल (Small Solar Panel) का भारत में एक बहुत ही बड़ा बाजार है। इस सोलर पैनल को पोर्टेबल सोलर पैनल (Portable solar panel), मिनी सोलर पैनल (Mini Solar Panel), डीआईवाई सोलर पैनल (DIY solar panel) जैसे कई अन्य नामों से भी जाना जाता है। 

यह सोलर पैनल वजन में काफी हल्का और compact होता है। यदि आप सोलर पैनल के जरिए सिर्फ मोबाइल चार्जिंग और लाइटिंग जैसी छोटी छोटी जरूरतों को पूरा करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपके लिए 10 वाट से लेकर 75 वाट तक का सोलर पैनल पर्याप्त है। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि आप इसे कहीं भी आसानी से ले जा सकते हैं। 

लूम सोलर भारत की सबसे विश्वसनीय और प्रतिष्ठित सोलर  manufacturer कंपनी है। हमने बाजार में 10W, 20W, 40W, 50W और 75 वाट के कई बेहतरीन small solar panel को लॉन्च किया है, जो क्वॉलिटी और परफार्मेंस में बेस्ट है।

लूम सोलर का 50W और 75W का सोलर पैनल monocrystalline solar cell technology में उपलब्ध है और 10W, 20W & 40W polycrystalline solar cell technology में उपलब्ध है।

इन सभी सोलर पैनल का प्रयोग 7Ah, 12Ah, 20Ah & 40Ah battery को चार्ज करने के लिए किया जाता है। इसके साथ - साथ इसका इस्तेमाल Home Lighting System, Street Light, Traffic Controller Device, Speed Limit Device, CCTV Camera, Water Level Checking Device, Online Monitoring System, Drone, Science Projects आदि जैसे कार्यों में भी किया जाता है।

50 वाट सोलर पैनल की कीमत कितनी है? (What is 50 watt solar panel price)

50 वाट का सोलर पैनल बाजार में सबसे अधिक बिकने वाले सोलर पैनलों में से एक है। इस सोलर पैनल पर आप मोबाइल चार्ज करने, बल्ब जलाने से लेकर छोटा पंखा चलाने तक जैसे कई कार्यों को कर सकते हैं। हालांकि 50 वाट का सोलर मार्केट काफी असंगठित है। यदि आप इसे खरीदने की योजना बना रहे हैं, तो आप एक अनूठी विश्वसनीयता के लिए लूम सोलर का ही चयन करें। इसके लिए आपको 2500 से लेकर 3000 रुपये तक खर्च होंगे।

500 वाट सोलर पैनल की कीमत कितनी है? (What is 500 watt solar panel price)

यदि आपके पास एक छोटा सा 1 बीएचके घर है और आप अपने घर में सोलर पैनल पर सिर्फ लाइट, पंखा, टीवी जैसी चीजें चलाना चाहते हैं, तो आप इन जरूरतों को 500 वाट के सोलर पैनल से भी पूरी कर सकते हैं। यदि आप Vikram Solar Panel लेते हैं, तो आपको 250 वाट का दो पैनल लेना होगा, जिसमें आपको करीब 17 हजार रुपये खर्च होंगे। लेकिन यदि आप करीब 22 हजार रुपये खर्च कर लूम सोलर का पैनल लेते हैं, तो आपको अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस पैनल मिल जाएंगे और आपको सालोंसाल सोचने की जरूरत नहीं पड़ेगी। 

5 किलो वाट का सोलर पैनल खरीदने में कितना खर्च आएगा? (What is 5 kilowatt solar panel price)

यदि आप अपने घर को बिजली के मामले में लगभग पूरी तरह से आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं, तो आप अपने घर में 5 किलो वाट का सोलर सिस्टम लगवा सकते हैं। यदि आप इतनी क्षमता का ऑफ ग्रिड सोलर सिस्टम ले रहे हैं, तो आप बिजली के मामले में पूरी तरह से आत्मनिर्भर हो जाएंगे। वहीं, यदि आप ऑन ग्रिड सोलर सिस्टम लेते हैं, तो आपके महीने का बिल 80 प्रतिशत तक आसानी से कम हो जाएगा। आपको 5 किलो वाट का सोलर पैनल खरीदने में करीब  1,90,000 रुपये खर्च होंगे। जिसमें 550 वाट के हॉफ कट मॉडल का 8 सोलर पैनल आएगा। बता दें कि 5 किलोवाट के सोलर सिस्टम पर आप घर में पानी के मोटर और फ्रिज से लेकर एसी तक आसानी से चला सकते हैं।

100 वाट के सोलर पैनल में कितना खर्च आएगा? (What is 100 watt solar panel price)

अपने घर में 100 वाट के सोलर सिस्टम को लगाने से भी आपकी जिंदगी काफी आसान हो सकती है। इससे आप अपने घर में कई एलईडी बल्ब जलाने के साथ ही, मोबाइल चार्जिंग, पंखा आदि भी चला सकते हैं। यदि आपके पास 100 वाट का सोलर पैनल है, तो आपको करीब 50 एम्पीयर की बैटरी भी खरीदनी होगी। बता दें कि यदि आप 100 वाट का सोलर सिस्टम लेते हैं, तो आप polycrystalline panel को चुनें। इसमें आपको करीब 6500 रुपये का खर्च आएगा।

सोलर पैनल बैटरी की कीमत कितनी होती है? (solar panel battery price)

आज के समय में कोई भी बैटरी 12 वोल्ट की ही होती है। लेकिन इसके एम्पीयर अलग - अलग होते हैं। आप अपने बैटरी का चुनाव कैसे करें, यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आपके पास कितने वोल्ट का इन्वर्टर है और उसकी क्षमता कितनी है और आपके पास जितनी क्षमता का इन्वर्टर रहेगा, आपको उतनी ही क्षमता की बैटरी खरीदनी होगी। वहीं, यदि इन्वर्टर बैटरी से कम है, तो बैटरी चार्ज नहीं होगा और यदि ज्यादा है तो बैटरी तुरंत खराब हो जाएगा। सामान्यतः आज घरों में 6 एएच से लेकर 200 एच की बैटरी का इस्तेमाल होता। जिसे खरीदने के लिए आपको 8 हजार रुपये से लेकर 10 हजार रुपये तक खर्च करने होंगे।

वहीं, यदि आप 150 एएच की बैटरी खरीदने की योजना बना रहे हैं, तो आपको करीब 6-7 बैटरी खरीदनी होगी। लेकिन इसके बजाय आप लूम सोलर के अत्याधुनिक तकनीकों से लैस लिथियम ऑयन बैटरी को खरीद सकते हैं, जो चार बैटरी के बराबर अकेले है। इस बैटरी को रखने के लिए आपको कम जगह की भी जरूरत पड़ेगी।

3 किलोवाट सोलर पैनल की कीमत कितनी है? (What is 3 kilowatt solar panel price)

यदि आप अपने घर में सोलर सिस्टम से पानी का मोटर चलाना चाहते हैं, तो आप अपने यहाँ 3 किलोवाट का सोलर सिस्टम लगवा सकते हैं। यदि आप 3 किलो वाट का सोलर पैनल खरीदना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको 1.35 लाख रुपये से लेकर 1.50 लाख रुपये तक खर्च करने होंगे, जिसमें 500 वाट के 6 पैनल आएंगे।

2 किलो वाट के सोलर पैनल को खरीदने में कितना खर्च आएगा? (What is 2 kilowatt solar panel price)

यदि आप अपने घर में 4-5 पंखा, 8-10 बल्ब, फ्रिज और कूलर जैसी मशीनों को चलाना चाहते हैं, तो आप अपने यहाँ 2 किलो वाट के सोलर सिस्टम को लगवा सकते हैं। यदि आप 2 किलो वाट का सोलर पैनल खरीदना चाहते हैं, तो इस पर आपको 90 हजार रुपये से लेकर 1 लाख रुपये तक का खर्च आएगा। इसमें आपको 500 वाट के 4 सोलर पैनल मिलेंगे।

250 वाट के सोलर पैनल पर कितना खर्च आएगा? (What is 250 watt solar panel price)

यदि आप अपने घर में 250 वाट का सोलर पैनल खरीदना चाहते हैं, तो इससे एक दिन में 1 यूनिट बिजली का निर्माण आसानी से किया जा सकता है। इससे आप अपने यहाँ मोबाइल चार्जिंग, लाइट, डीसी फैन जैसी कई छोटी - छोटी सुविधाओं का आनंद ले सकते हैं। यदि आप 250 वाट का सोलर पैनल खरीदते हैं, तो आपको करीब 8500 रुपये का खर्च आएगा।

200 वाट के सोलर पैनल को खरीदने में कितना खर्च आएगा? (What is 200 watt solar panel price)

यदि आप अपने घर में 200 वाट के सोलर पैनल को लाते हैं, तो आप इस पर कॉफी मेकर, लैपटॉप, एलईडी बल्ब, एलसीडी टीवी, माइक्रोबेव जैसी कई छोटी - छोटी चीजों को चला सकते हैं। बता दें कि 200 वाट के सोलर पैनल को खरीदने के लिए आपको करीब 10500 रुपये खर्च करने होंगे।

मिनी सोलर पैनल की कीमत कितनी है? (What is mini solar panel price)

आम तौर पर 10 वाट से लेकर 50 वाट तक के सोलर पैनल को मिनी सोलर पैनल की कैटेगरी में गिना जाता है। इससे मोबाइल चार्ज करने के साथ ही, लाइट भी जलाया जा सकता है। इसका भारत में एक बड़ा बाजार है, खास कर तटीय क्षेत्रों में। इस पर आपको 750 रुपये से लेकर 3000 रुपये तक का खर्च आएगा।

मोनो पर्क सोलर पैनल की कीमत कितनी है? (What is mono perc solar panel price)

आज के समय में दक्षता के मामले में mono perc solar panel को श्रेष्ठ माना गया है। यह कम धूप में भी पूरी बिजली बनाने में सक्षम है। यदि आप अपने घर में 50 वाट का mono perc solar panel लगाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको करीब 3 हजार रुपये खर्च करने होंगे। वहीं, यदि 550 वाट का खरीदना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको 25 हजार रुपये खर्च करने होंगे।

सोलर सिस्टम लगाने में कितना खर्च आएगा? (What is solar panel system price)

यदि आप अपने घर में सोलर सिस्टम लगाना चाहते हैं, तो इसके पैकेज में आपको सोलर पैनल के साथ, बैटरी और इंवर्टर भी दिया जाएगा। बता दें कि आज के समय में 1 किलो वाट के सोलर सिस्टम को लगाने में 70 हजार रुपये से लेकर 1 लाख रुपये तक का खर्च आसानी से आता है। इस प्रकार यदि आप अपने घर में 5 किलो वाट का सोलर सिस्टम लगाते हैं, तो इस पर आपको 3.5 लाख रुपये से लेकर 5 लाख रुपये तक का खर्च आएगा।

बाई फेसियल सोलर पैनल की कीमत कितनी है? (What is bifacial solar panel price)

आज के समय में Bifacial solar panel बाजार में उपलब्ध सबसे उन्नत सोलर पैनल है। इसकी विशेषता यह है कि इसमें दोनों ओर से बिजली बनती है। इस कारण इसमें कम जगह में और कम समय में ही, आपको अधिकतम बिजली मिलती है। बता दें कि यदि आप विक्रम का 410 वाट का, अडाणी का 435 वाट का, Waaree का 445 वाट का या लूम सोलर के 445 वाट के Bifacial solar panel को लेते हैं, तो इस पर आपको 16.5 हजार रुपये से लेकर 21,750 रुपये तक का खर्च आएगा।

निष्कर्ष

हमें उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए मददगार साबित होगा। यदि आप अपने घर में सोलर सिस्टम लगवाना चाहते हैं और खुद को बिजली के मामले में पूरी तरह से आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं, तो अभी हमसे संपर्क करें। हमारे विशेषज्ञ आपकी जरूरतों को समझते हुए, आपकी साइट पर जाएंगे और आपको आगे की राह दिखाएंगे।

Leave a comment

Top selling products

Loom Solar Engineer VisitEngineer Visit
Loom Solar Engineer Visit 25 reviews
Sale priceRs. 1,000 Regular priceRs. 2,000
Reviews
Dealer RegistrationLoom Solar Dealer Registration
Loom Solar Dealer Registration 262 reviews
Sale priceRs. 1,000 Regular priceRs. 5,000
Reviews