आटा चक्की के लिए Solar System लगवाने में कितना ख़र्चा आएगा?

भारत में कुछ ऐसे बिज़नस हैं जो कई सालों से चलते आ रहे हैं और समय के अनुसार उनमें प्रयोग किये जाने वाले उपकरण बदल गए हैं । यहाँ बात कर रहे है आटा चक्की जैसे बिज़नस इसके इलावा मिल / तेल मिल / चूरा मिल भी ऐसे बिज़नस जुड़े हैं। डीजल (Diesel) और बिजली (Electricity Bill) की कीमत के साथ कई परेशानी भी लोगों को देखने को मिल रही हैं और इसके समाधान के लिए कुछ स्थानों में सौर उर्जा (Solar Energy) की मदद ली जा रही है । बिहार के बेतिया जिला, जो पटना शहर से क़रीब 250 किलोमीटर की दूरी पर है, वहाँ 10 HP आटा चक्की को 15 किलोवाट सोलर पैनल की मदद से चलाया जा रहा है।

क्यों लगाया गया सोलर पैनल?

solar panel

आटा चक्की बिज़नस देश के हर शहर में देखने को मिलती है जहाँ पर चक्की को चलाने के लिए डीजल इंजन और सरकारी बिजली से चलाया जा रहा है। बढ़ते बिजली बिल के चलते कई आटा चक्की चलाने वाले सौर उर्जा (Solar Energy) को अपनाना  फायदेमंद समझ रहे है।

 

“बिजली का बिल कम करना चाहते थे इसलिए सोचा कि सोलर पैनल लगाकर दिन के समय में आटा चक्की को सोलर से चलाया जाए।”

कैसे फायदा देता है?

solar system

बिहार के बेतिया जिले में सोलर पैनल लगाकर आटा चक्की चलाई जा रहा है, जिसके फायदे नीचे दिए गया हैं:

 

1. जितना खर्च बिजली और डीजल चलाने से आता है, उससे कम खर्च सोलर पैनल से चलाने में आता है।
2. दिन के समय सुबह 10 बजे से शाम के 5 बजे तक आटा चक्की सोलर पैनल से चल सकती है।
3. प्रतिदिन लगभग 1,000 रुपये की कमाई होती है।
4. बिजली पर निर्भर नहीं है।

इस पर क्या चलता है?

atta chaki solar system

यहाँ 10 HP और 3 HP, 3 Phase के दो AC मोटर है जिससे आटा चकी और चूरा मिल चलते हैं जो दिन के समय सुबह 10 बजे से शाम के 5 बजे तक आटा चक्की सोलर पैनल से उत्पन्न हुई बिजली से चलते हैं। रात के समय में  भी अगर चक्की  चलानी  है तो change over की मदद से सरकारी बिजली पर बदल दिया जाता है । यहाँ पर लूम सोलर मोनो पैनल (Loom Solar Monocrystalline solar panel) लगाने के कारण ये बादल और कम रोशनी वाले। मौसम में भी चलता रहता है।

कैसे काम करता है?

solar system works

सोलर पैनल (Solar Panel) सूर्य की रोशनी से DC बिजली बनाता है और VFD की मदद से इस बिजली को AC बिजली में बदला जाता है ।सोलर पैनल को ऐसी जगह पर इनस्टॉल किया जाता है जहाँ पूरा दिन सूर्य की रोशनी आती हो। सोलर पैनल का इंस्टालेशन पैनल स्टैंड पर मजबूती के साथ कसा जाता है और सोलर वायर की मदद से MCB डिस्ट्रीब्यूशन बॉक्स तक लाया जाता है।

वायरिंग कनेक्शन कैसे होता है?

atta chaki solar wire connection

आटा चक्की चलाने के लिए सोलर वायर कनेक्शन (Solar Wiring Connection) सावधानी पूर्वक होनी चाहिए अन्यथा मोटर की पूरी स्पीड नहीं चल पाएगी जिससे गेहूँ पीसते समय आटा मोटा और पतला हो सकता है. सोलर सिस्टम खरीदते समय मोटर कितने HP और Phase का है ये आपको पता होना चाहिए. दिए हुए जानकरी के अनुसार सोलर पैनल, VFD, DCDB  लगाया  जाता है। नीचे 10 HP आटा चकी के लिए सोलर सिस्टम (Solar System) बनाया गया है जो पूरी तरह सफल चल रहा है.

 

  1. Motor: 10 HP 3 Phase Motor & 3 HP 3 Phase Motor
  2. How many watt solar panels: 34 * 390-Watt Solar Panel
  3. Manufacturer – LOOM SOLAR
  4. Solar Panel Type: Mono PERC Solar Panel
  5. Installation Area – Tin Shade
  6. Connection Diagram – Series Connection (17 Solar Panels)
  7. Controller – 20 HP VFD, 3 Phase
  8. Change Over -  Switch for Grid to Solar / Solar to Grid

लगाने में खर्च कितना आएगा?

15 किलोवाट सोलर सिस्टम (15 kW Solar Panel System) लगाने का खर्च लगभग 7,50,000 रुपये आता है जिनमें- सोलर पैनल, VFD, पैनल स्टैंड, सोलर वायर, लाइटिंग अर्रेस्टर, अर्थिंग किट, DCDB Box, MC4 Connector और Solar Installation शामिल होता है। पूरी जानकरी...https://www.loomsolar.com/pages/contact

कितने किलोवाट का प्लांट लगाना पड़ेगा?

15kw solar system

इस प्रकार के सोलर सिस्टम लगाने के लिए सरल भाषा में समझा जाये तो जितने HP का मोटर होगा, उसके 1.5 गुना (1.5x) सोलर पैनल लगाने की जरुरत होगी। यदि 3 HP मोटर आटा चक्की है तो उसके लिए कम से कम 5 किलोवाट सोलर पैनल और 10 HP मोटर वाला आटा चकी है तो उसके लिए 15 किलोवाट सोलर पैनल पड़ेगा।

कौन-सा सोलर पैनल सबसे ज्यादा टिका रहेगा?

shark bifacial solar panel

सोलर सिस्टम लगाना एक प्रकार के बड़ा निवेश है जिसका Return लगभग 4 से 5 साल में आ जाता है लेकिन इसके लिए सही सोलर पैनल का चुनाव करना जरुरी है।  सोलर पैनल की लाइफ लगभग 25 वर्षो की होती है लेकिन इसके लिए समय समय पर रख रखाव पर खर्च करना पड़ता है।लूम सोलर ने इंडिया में सबसे ज्यादा बिजली बनाने वाला सोलर पैनल बनाया गया है जिसकी समुंद्र में रहने वाली शार्क मछली के लाइफ जैसी है।

पूरी जानकरी...

इस सिस्टम की पूरी जानकरी कहाँ से मिलेगी?

लूम सोलर

आटा चक्की के सोलर पैनल लगाना काफी फायदेमंद साबित हो सकता है लेकिन इसके लिए सही जानकरी होना अति आवश्यक है । भारत की नंबर 1 सोलर कंपनी लूम सोलर जो सोलर पैनल, बैटरी, और अन्य सोलर उपकरण बनाती है जिससे आप अपने घर से और अपने शहर के रिटेल शॉप से पूरी जानकरी प्राप्त कर सकते है।

1 comment

nishi chandra

nishi chandra

test

Leave a comment