बिजली का बिल 0 करना है तो अपनाए सोलर एनर्जी

जिस तरह से देश में बिजली की दरें लगातार बढ़ती जा रही हैं और मासिक बिजली का बिल भरना मुश्किल होता जा रहा है, उसको देखते हुए सोलर एनर्जी एक बेहतरीन विकल्प है। आज के दौर में अपने घर या ऑफिस में सोलर एनर्जी सिस्टम लगवाना पहले की तरह महंगा भी नहीं रहा है। एक लाख रुपए से भी कम के निवेश से आप अपने अपने दो-ढाई हजार रुपए के मासिक बिजली बिल को 0 कर सकते हैं।

सोलर पैनल सिस्टम क्या है?

आज तो सोलर पैनल सिस्टम लगवाने के लिए दुकान दुकान जाकर पूछताछ करने की भी जरूरत नहीं है, सिर्फ एक फोन पर ही पूरी सुविधा घर बैठे ही प्राप्त की जा सकती है। दूसरी तरफ, भारत सरकार भी सोलर पैनल लगाने वालों को न्यू एंड रिन्यूएबल एनर्जी मंत्रालय के माध्यम से रूफटॉप सोलर प्लांट पर 30 फीसदी सब्सिडी देती है। बिना सब्सिडी के रूफटॉप सोलर पैनल लगाने पर करीब 1 लाख रुपए का खर्च आता है।

सुलेमान, ऐसे ही एक सोलर सिस्टम लगवाने वाले ग्राहक हैं, जिनका पहले मासिक बिजली का बिल 2000 से 2500 रुपए तक आता था। उन्होंने सोलर सिस्टम के बारे में पता चलने पर अपने घर पर ही इसे लगवा लिया। आज उनका मासिक बिजली बिल सिर्फ 100 रूपए ही रह गया है।


सुलेमान ने बताया कि वे गांव में रहते हैं और वहां पर बिजली के बार-बार चले जाने से काफी परेशानी अलग से होती थी। बिजली जाने से घर के कई सारे जरूरी काम भी थम जाते थे। आज सोलर सिस्टम लगने से बिजली जाने की समस्या ही खत्म हो गई है। मासिक बचत अलग से हो रही है। वे अपने सोलर सिस्टम से लाइट और पंखों के साथ ही रसोई में मिक्सर और वॉशिंग मशीन के साथ वाटर मोटर तक भी चला रहे हैं। 

सुलेमान का कहना है कि एक सोलर सिस्टम ने उनकी कई सारी समस्याओं को हल कर दिया है। वे तो अब ये सोचते हैं कि उन्हें इस सिस्टम के बारे में इतनी देरी से क्यों पता चला। अगर सोलर सिस्टम के बारे में पहले ही पता चल गया होता तो वे सालों से जिन मुश्किलों को झेलते आ रहे थे, उनसे भी छुटकारा पहले ही मिल जाता। चलो, देर आयद दुरुस्त आयद, सुलेमान तो बिजली संबंधित अपनी समस्याएं और परेशानियां हल कर चुके हैं और अब बारी आपकी है। 

आज के दौर में काफी कॉम्पैक्ट सोलर सिस्टम आते हैं और आप एक छोटे से कोने में भी पूरा सिस्टम लगवा सकते हैं। सोलर पैनल तो घर की छत पर ही लग जाएंगे और ऐसे में कोई खास परेशानी नहीं होगी। आप अपनी जरूरत के अनुसार सोलर सिस्टम पर घर के सभी अप्लायसेंज चला सकते हैं। कंपनियां पूरे सिस्टम पर कई-कई साल की गारंटी देती हैं और मेंटेंनस का काम भी उनको ही दिया जा सकता है। इससे आपकी कई सारे परेशानियां अपने आप ही खत्म हो जाएंगी।

एक सोलर पैनल की कीमत तकरीबन एक लाख रुपए है। राज्यों के हिसाब से यह खर्च अलग होगा। सब्सिडी के बाद एक किलोवॉट का सोलर प्लांट मात्र 60 से 70 हजार रुपए में कहीं भी इन्स्टॉल करा सकते हैं। वहीं, कुछ राज्य इसके लिए अलग से अतिरिक्त सब्सिडी भी देते हैं और इस बारे में राज्य सरकार के सौर उर्जा विभाग से संपर्क किया जा सकता है।

सोलर पैनल खरीदने के लिए आप राज्य सरकार की रिन्यूएबल एनर्जी डेवलपमेंट अथॉरिटी से संपर्क कर सकते हैं। वहीं हर शहर में प्राइवेट डीलर्स के पास भी सोलर पैनल उपलब्ध हैं। अथॉरिटी से लोन लेने के लिए पहले संपर्क करना होगा। सोलर सिस्टम लगवाने के समय ग्राहकों के मन में ये एक प्रमुख सवाल होता है कि ये कितने समय तक काम करेगा तो यहां बताना महत्वपूर्ण है कि सोलर पैनलों की उम्र करीब 25 साल तक होती है और ऐसे में आप 25 साल तक हर महीने अच्छी बचत कर सकते हैं; 

ये पैनल अपके घर की छत पर लगेंगे और यह प्लांट एक किलोवाट से पांच किलोवाट क्षमता तक होंगे। इससे मिलने वाली बिजली न केवल निशुल्क होगी, बल्कि प्रदूषण मुक्त भी होगी। कई राज्यों में तो राज्य बिजली बोर्ड लोगों से सरप्लस सोलर बिजली खरीद भी रहे हैं। ऐसे में आप इस बिजली से कमाई भी कर सकते हैं। ग्राहक अपनी जरूरत के मुताबिक, पांच सौ वाट तक की क्षमता के सोलर पावर पैनल लगा सकते हैं। इसके तहत पांच सौ वाट के ऐसे प्रत्येक पैनल पर 50 हजार रुपए तक खर्च आएगा।

8 - 10 साल में बदलनी होगी बैटरी

solar inverter battery

सोलर पैनल में मेटनेंस खर्च नहीं आता, लेकिन हर 8 - 10 साल में एक बार बैटरी बदलनी होती है। इसका खर्च करीब 20 हजार रुपए होता है। इस सोलर पैनल को एक स्थान से दूसरे स्थान पर आसानी से ले जाया जा सकता है। जिस तरह से बैटरी की कीमत कम हो रही है, ऐसे में 10 साल बाद ये खर्च और भी कम हो सकता है।

सोलर एनर्जी से एयरकंडीशनर भी चला सकेंगे

air conditioner

एक किलोवाट क्षमता के सोलर पैनल में आमतौर पर एक घर की जरूरत की पूरी बिजली मिल जाती है। अगर एक एयरकंडीशनर चलाना है तो दो किलोवाट और दो एयर कंडीशनर चलाना है तो तीन किलोवाट क्षमता के सोलर पैनल की जरूरत होगी। इससे मासिक बिल में 10 से 12 हजार रुपए की बचत की जा सकती है।

बेच भी सकते हैं एनर्जी

net meter
राजस्थान, पंजाब, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों में सोलर एनर्जी को बेचने की सुविधा दी जा रही है। इसके तहत सोलर पावर प्लांट से पैदा की गई अतिरिक्त बिजली पावर ग्रिड से जोड़कर राज्य सरकार को बेची जा सकेगी। उत्तर प्रदेश ने सोलर पावर का प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहन स्कीम शुरू की हुई है। इसके तहत सोलर पैनल के इस्तेमाल पर बिजली बिल में छूट मिलेगी। राज्य की बिजली कंपनियों के साथ पावर परचेज एग्रीमेंट कर आप मासिक आय शुरू कर सकते हैं।

आज के दौर में सोलर सिस्टम लगाने वाली कंपनियों को आपको सिर्फ एक फोन करना होता है। उसके बाद वे साइट विजिट कर सोलर पैनल लगाने के काम से लेकर दस्तावेज आदि पूरे करने का काम भी अपने स्तर पर ही करती हैं। कंपनी एक दिन में भी सोलर सिस्टम लगाने की क्षमता रखती हैं, जरूरत बस आपके इस नए सिस्टम को अपनाने के लिए एक जरूरी पहल करने की है। उसके बाद पूरा काम सोलर सिस्टम लगवाने वाली कंपनी का है। 
Previous article दुकानों के लिए कौन-सा सोलर सिस्टम खरीदें?
Next article 5 बातें जरुर जाने, सोलर पैनल स्टैंड खरीदने से पहले?

Leave a comment

* Required fields