क्या होती है Crypto Mining? जिससे दुनिया में उभर रही बिजली संकट की समस्या

आज पूरी दुनिया में पैसे कमाने के लिए क्रिप्टो माइनिंग का इस्तेमाल तेजी से बढ़ा है। बता दें कि यह एक ऐसा प्रोसेस है, जिसमें आपके क्रिप्टोकरेंसी से संबंधित लेन देन को तरीकों से प्रमाणित किया जाता है और उसे ब्लॉक चेन डिजिटल लेजर में स्टोर किया जाता है।

बता दें कि बीते कुछ समय में बिटकॉइन, ईथर और डॉजकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी में का चलन तेजी से बढ़ने के कारण, इस सेक्टर में काफी बूम आया है और आज सामान्य लोग भी इसमें पैसा लगाने के लिए तैयार हैं।

क्या होता है ब्लॉकचेन?

ब्लॉकचेन एक तरह से डिजिटल डेटाबेस, जिसमें हर लेन देन का रिकॉर्ड एक कंप्यूटर सिस्टम के पूरे नेटवर्क पर दर्ज किया जाता है। बता दें कि इसमें पैसों की सुरक्षा के लिए एक कभी न बदलने वाले क्रिप्टोग्राफिक सिग्नेचर के साथ दर्ज किया जाता है और लोग इसे हैश भी कहते हैं। 

कैसे लोग करते हैं इस्तेमाल

क्रिप्टो करेंसी में पैसों का निवेश अमूमन दो तरह के लोग करते हैं। एक तो वे जो इसमें पैसा लगाते हैं और फायदा कमाते हैं और दूसरे वे लोग क्रिप्टो माइनिंग करते हैं।

बता दें कि आज से कुछ समय पहले चीन में क्रिप्टो माइनिंग सबसे बड़े पैमाने पर होती थी। लेकिन अब वहाँ क्रिप्टो माइनिंग पर बैन लगा दिया गया है। इसका फायदा, उसके पड़ोसी देश कजाकिस्तान ने खूब उठाया है और आज वहाँ काफी बड़े दायरे में क्रिप्टो माइनिंग होती है।

क्या होती है जरूरत

आज क्रिप्टो माइनिंग को आम लोगों के लिए सहज बनाने के लिए इंटरनेट पर कई  ऐप्स मौजूद हैं। ये ऐप्स आपके मोबाइल में कोई  प्रोसेसर और मेमोरी का इस्तेमाल नहीं करते हैं और आप इसका इस्तेमाल सीधे क्रिप्टो माइनिंग के लिए कर सकते हैं।

काफी होती है बिजली की जरूरत

यदि पूरे देश में क्रिप्टो माइनिंग का चलन काफी बढ़ जाए, तो देश के सामने भारी बिजली संकट पैदा हो सकती है। बीते दिनों अमेरिका में खबर आई थी कि Bitcoin जैसी क्रिप्टो करेंसी की माइनिंग के लिए कोयले से चलने वाले  पावर प्लांट्स से बिजली की उपलब्धता तय करने पर, 2 साल का मोराटोरियम लागू हो सकता है और इसे लेकर एक विधेयक भी पास किया गया है।

बता दें कि क्रिप्टो माइनिंग के लिए काफी बिजली की जरूरत होती है। क्योंकि इसमें ब्लॉकचेन ट्रांजैक्शंस को प्रमाणित करने के लिए गणित आधारित कई पहेलियों को कम्प्यूटर पर हल करने की जरूरत पड़ती है और पहेली को हल करने वाले  माइनर को रिवॉर्ड के तौर पर क्रिप्टोकरेंसी दी जाती है।

ऐसे में यह जाहिर सी बात है कि यदि दुनिया में क्रिप्टो माइनिंग का इस्तेमाल बढ़ेगा, तो बिजली का इस्तेमाल भी बढ़ेगा और लोगों को आने वाले कुछ वर्षों में बिजली टैक्स में भारी उछाल के लिए तैयार रहना होगा।

क्या है उपाय

यदि आने वाले समय में क्रिप्टो माइनिंग से पैदा होने वाले खतरे से बचना है, तो दुनिया के तमाम देशों को उसकी तैयारी अभी से ही करनी होगी और उन्हें रिन्यूएबल एनर्जी के इस्तेमाल को तेजी से प्रोत्साहित करना होगा।

इस कड़ी में, सोलर सिस्टम का इस्तेमाल भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।  क्योंकि, सोलर एनर्जी एक कभी न खत्म होने वाला ऊर्जा स्त्रोत है और इसका इस्तेमाल आज हर घरेलू कार्य से लेकर व्यवसायिक क्षेत्र में आसानी से किया जा सकता है।

बता दें कि आज बाजार में अत्याधुनिक तकनीकों से लैस ऐसे सोलर पैनल्स लॉन्च हो चुके हैं, जो कम धूप में भी आपको पूरी बिजली बना कर देता है और इसका इस्तेमाल आप एसी, पंखा, कम्प्यूटर चलाने से लेकर मोटर पम्प चलाने तक में कर सकते हैं और खुद को बिजली के मामले में आत्मनिर्भर बना सकते हैं।

निष्कर्ष 

हमें उम्मीद है कि क्रिप्टो माइनिंग पर आधारित यह लेख आपके लिए मददगार साबित होगा। यदि आप सोलर सिस्टम के बारे में कोई अन्य जानकारी चाहते हैं, तो अभी हमसे संपर्क करें। हमारे विशेषज्ञ आपकी मदद के लिए चौबीसों घंटे तैयार रहते हैं।

Leave a comment

Top selling products

Loom Solar Engineer VisitEngineer Visit
Loom Solar Engineer Visit 21 reviews
Sale priceRs. 1,000 Regular priceRs. 2,000
Reviews
Dealer RegistrationLoom Solar Dealer Registration
Loom Solar Dealer Registration 230 reviews
Sale priceRs. 1,000 Regular priceRs. 5,000
Reviews