क्यों सोलर है जरूरी Fish Farming Business के लिए?

इंडिया कृषि प्रधान देश है जहाँ पर ग्रामीण इलाकों के आस-पास बहुत सारे बंजर ज़मीन पड़े होते हैं जहाँ कोई भी फ़सल उगाना संभव नहीं है. यहाँ के किसान इस बंजर ज़मीन को मछली पालन के लिए उपयोग करते हैं जिससे उनकी आमदनी में तरकी हो.

Fish Farming Industry Overview

fish farming industry

Fish Farming Business लगभग $285,359.7 million 2019 में था और 2027 में लगभग $378,005.5 million तक हो जायेगा. इस सेक्टर में इंडिया और ग्लोबल मार्केट दोनों ही काम रही है क्योंकि मछली कई लोगो का Cultural Traditions और Health दोनों से जुड़ा हुआ है. इसी अवसर को देखते हुए कई Young Business Entrepreneur किसी दूसरे बिज़नेस के साथ इस बिज़नेस में भी अपना काम शुरू कर रहे हैं.

 

Fish Farming Business शुरू करने के लिए लैंड, पानी और बिजली की ज़रूरत होती है लेकिन बिजली ग्रामीण इलाकों नहीं होती हैं. यहाँ पर बिजली ट्रांसमिशन लाइन बिजली विभाग अलग से नहीं लगाते है. यदि कोई किसान बिजली विभाग से लगबाते भी है तो उनको जरुअत से ज्यादा खर्च करना परता है. खर्च के साथ समय और परेशानी का भी सामना करना पड़ता है. आज के समय में इसके लिए सौर ऊर्जा अपना कर मछली पालन के लिए पानी का उपयोग कर रहें है.  

सोलर वॉटर पम्प (Solar Water Pump)

solar water pump

सोलर वॉटर पम्प (Solar Water Pump) सोलर सिस्टम का ऐसा सिस्टम है जिसमें दिन के समय में सूर्य की रोशनी  से पानी का मोटर चलाया जाता है. इसमें Solar Panel, VFD  और Solar Stand लगाया जाता है जो दिन के समय में सुबह 8 बजे से लेकर 5 बजे तक पानी का मोटर चला सकते है.

सोलर वॉटर पंप (Solar Water Pump) का चुनाव कैसे करें?

सोलर वॉटर पम्प में पानी का मोटर Submersible और Surface Pump होता है जिसकी रेटिंग आपको पता होना चाहिए. वाटर पंप की रेटिंग हमेशा उसके टेक्निकल स्टिकर (Technical Sticker) पर लिखा हुआ रखता है जैसा कि नीचे स्क्रीन में दिखाया हुआ.

water pumpset
solar system with vfd

 

दूसरा इसमें पानी की गहराई पर है इस पर भी निर्भर करता है यह ग्रामीण इलाकों में पानी लगभग 60 फ़ीट से 200 फ़ीट के बीच में होता है. आपको ये पता होना चाहिए कि पानी कितने उचाई तक पहुँचाना रहता है. आसान भाषा में समझा जाए तो जितना Water Pump की रेटिंग होती है उसका 1.5 से 2 गुना ज्यादा सोलर पैनल लगाना होगा.

सोलर वॉटर पंप के  कौन - कौन से उपकरण लगते हैं?

यदि किसी किसान के पास पहले से पंप सेट (Pump Set) लगा हुआ है तो उनको सोलर पैनल और VFD के साथ ही इंस्टॉलेशन किट जिसमें DC Wire और पैनल स्टैंड लगाना होता है. पैनल स्टैंड कई प्रकार के आते हैं जो जरुअत के अनुसार लगाया जाता है.

 

 

इस वीडियो में कन्याकुमारी (Kanyakumari, Tamil Nadu) में Fish Farming के लिए सोलर पैनल लगाया गया हैं जहाँ पर दो वॉटर पंप, एक सोलर सिस्टम से चलाया जा रहा है. यहाँ पर 3HP का 3 PHASE मोटर जलाने के लिए तीन किलोवाट का सोलर पैनल 5HP का  और 1 Change Over में लगाया गया है. Submersible Pump यहाँ पर Unground Water से पानी निकालकर पाउंड में भेज भेजता है और यहाँ पर 2-3 पाउंड हैं जब यदि बारिश के समय में ज़्यादा पानी हो जाता है तो पानी निकालने के लिए एक Surface Pump लगाया हुआ है जो दूसरे Pond तक पहुचाया जाता है जिसके कारण यहाँ पाउंड से मछली बाहर न जाए.

सोलर वॉटर पंप लगाने का ख़र्च कितना पड़ता है?

सोलर वॉटर पंप लगाने का ख़र्च लगभग 60 हज़ार रुपया 1HP के हिसाब से होता है जिसमें सोलर पैनल, VFD और इंस्टॉलेशन किट दिया जाता है. 2 HP से 7 HP वाटर पंप का प्राइस लिस्ट निचे दिया गया है:

Solar Water Pump
Cost (in Rs.)
2HP, 1 PHASE Water Pump (AC)
₹ 1,20,000
3 HP, 3 PHASE Water Pump (AC)
₹ 1,80,000
5 HP, 3 PHASE Water Pump (AC)
₹ 3,00,000
7.5 HP, 3 PHASE Water Pump (AC) ₹ 4,50,000

 

नोट: यहाँ वाटर पंप और बोरिंग का प्राइस ग्राहक को अलग से खरीदना परेगा.*


कौन-सा सोलर वॉटर पम्प लगाना उचित होगा?

सोलर वॉटर पम्प में दो टाइप के मोटर आते हैं एक DC Pump और दूसरा AC Pump. दोनों पंप के फ़ायदे और एक लिमिट फ़ायदे है. यदि DC Pump का सलेक्शन करते हैं तो वारिश के मौसम में आपको यदि पानी की ज़रूरत होगी तो आप सोलर से हम नहीं चला सकते हैं वहीं पर जब आप इस पॉप लगाते हैं तो आपके पास ग्रेड अब लेबल है तो सोलर के साथ साथ आप एसी करंट के साथ अपने वोटरों को चला सकते हैं

सोलर वॉटर पम्प का कनेक्शन कैसे होता है?

solar water pump connection

सोलर वॉटर पम्प में Motor Specification चेक करके सोलर पैनल ताक Wiring Connection किया जाता है और इसका इनपुट VFD में दिया जाता है. VFD 3 Phaseऔर 1 Phase दोनों का आता है.

क्या सोलर व सोलर वॉटर पम्प में लगे सोलर पैनल को घर के इनवर्टर बैटरी के साथ कनेक्ट कर सकते हैं

जिनके पास से वॉटर पम्प पर है वह चाहते हैं कि घर में इनवर्टर बैट्री (Inverter Battery) लगाकर हम इसको इस्तेमाल करें. उनके लिए एक चेंज ओवर आता है जिसका ख़र्च लगभग 20, हज़ार रुपया पर किलोवॉट के हिसाब से मिलता है उसमें वायरिंग कनेक्शन करके वह अपने तीन किलोवाट इन्वर्टर के साथ कनेक्ट कर सकते हैं.

क्या सोलर वॉटर पम्प लगाने पर सरकार सब्सिडी देती है?

सोलर वॉटर पंप लगाने पर सरकार कुसुम योजना के तहत लागू अब 90% सब्सिडी देती है लेकिन इस सब्सिडी को राज्य सरकार और केंद्र सरकार दोनों के तरफ़ से मिलता है. इस सब्सिडी स्कीम (Subsidy Scheme) को पाने के लिए आप अपने नज़दीकी बैंक में जाकर आप अपना आवेदन जमा करवा सकते हैं. पूरी जानकरी यहाँ पढ़े: https://www.loomsolar.com/blogs/hindi/solar-pump-yojana-kusum-yojana-in-india

कहाँ से मिलेगी पूरी जानकारी?

सोलर वॉटर पम्प लगाने से पहले आपको इसके बारे में टेक्निकल स्पेक्स चेक करना ज़रूरी हो जाता है अदर वाइज़ मोटर ख़राब हो सकती है या पानी सही से पानी जितना चाहिए उतना नहीं निकलेगा. इस सिस्टम की पूरी जानकारी के लिए आप www.loomsolar.com और अपने नज़दीकी डीलर और डिस्ट्रीब्यूटर से संपर्क कर सकते हैं

2 comments

Shaukat ali

Shaukat ali

150m water level

Shaukat ali

Shaukat ali

150 M water level

Leave a comment

সর্বাধিক বিক্রিত পণ্য

জনপ্রিয় পোস্ট

  1. Buying a Solar Panel?
  2. Top 10 Solar Companies in India, 2021-22
  3. Battery Beginner's Guide
  4. Top Lithium Battery Manufacturers in World, 2021
  5. How to Buy Solar Panel on Loan?